जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : Uttarakhand Weather Updateअक्टूबर बीतने की तरफ है। इस बार अक्टूबर में उत्तराखंड में देश में सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है। दीर्घ अवधि की बारिश के औसत से 508 प्रतिशत ज्यादा बारिश हुई है। अत्यधिक बारिश ही उत्तराखंड में आपदा की वजह बनी। अक्टूबर की बारिश के मामले में दिल्ली दूसरे नंबर पर रहा। दिल्ली में औसत से साढे चार गुना अधिक बारिश रिकार्ड की गई है। कुल मिलाकर देश के 16 प्रदेशों में सामान्य से बहुत अधिक बारिश हुई है। जबकि छह प्रदेशों सामान्य से अधिक, छह में सामान्य बारिश दर्ज की गई। वहीं नौ प्रदेशों में सामान्य से कम बारिश हुई है। इसमें अधिकांश पूर्वोतर राज्य शामिल हैं।

प्रमुख राज्यों में अक्टूबर की बारिश (मिमी में)

राज्य              औसत बारिश            बारिश हुई           वृद्धि प्रतिशत में

उत्तराखंड        33.4                       205.1               508

दिल्ली            10.4                        56.7                 445

पंजाब             8.3                          36.3                 337

जम्मू-कश्मीर  32.5                        100.7                210

उत्तर प्रदेश     30.6                        89.5                  192

राजस्थान       9.8                          20.9                 114

बिहार            60.9                        189.6                211

इन राज्यों में सामान्य से कम हुई बारिश

अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, दमन एवं द्वीप, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश व तेलंगाना आदि प्रदेशों में सामान्य से कम बारिश हुई है। सबसे कम बारिश मणिपुर में हुई। यहां औसत की अपेक्षा 55 प्रतिशत कम बारिश हुई है।

पूर्वानुमान : आगे शुष्क बना रहेगा मौसम

मौसम विभाग ने अगले कुछ दिन मौसम शुष्क रहने की संभावना जताई है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले सप्ताह कुमाऊं में मौसम शुष्क बना रहेगा। धूप खिली रहेगी। सुबह-शाम ठंड बढ़ेगी।

Edited By: Skand Shukla