डीके जोशी, अल्मोड़ा : विधान सभा चुनाव की तैयारियों के बीच हाईस्कूल-इंटर बोर्ड परीक्षार्थी ऊहापोह की स्थिति में हैं। उत्तराखंड राज्य गठन के बाद जब से विद्यालयी व परीक्षा परिषद अस्तित्व में आया तब से हर साल दिसंबर माह के पहले पखवाड़े में ही परीक्षा तिथि व कार्यक्रम घोषित कर दिया जाता था। वहीं इस बार अब तक परीक्षार्थियों की कोई सुध नहीं लिए जाने से परीक्षार्थी असमंजस में हैं। बोर्ड परीक्षा के लिए राज्य के विभिन्न जिलों में 2.42 लाख परीक्षार्थी पंजीकृत हैं।

विद्यालयी व परीक्षा परिषद की ओर से विगत सालों तक परीक्षा कार्यक्रम दिसंबर माह में आवश्यक तौर पर घोषित कर दिया जाता था। यह बोर्ड परीक्षार्थियों के घर की पढ़ाई में किस विषय को कितना समय दिया जाए, लाभकारी सिद्ध होता था। विद्यार्थी घर में भी सभी विषयों की पढ़ाई के लिए समयबद्ध पढ़ाई की सारिणी तय कर लिया करते थे। वहीं इस बार अब तक निर्धारित कार्यक्रम तय नहीं होने से बोर्ड के संस्थागत व व्यक्तिगत परीक्षा उधेड़बुन में है। परीक्षार्थी अपने घर का टाइम टेबिल इस आधार पर तय करते हैं कि किस विषय के लिए कितनी गैपिंग है। इस बार बोर्ड परीक्षा में राज्य के विभिन्न जिलों से 2,42, 950 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं। इसमें हाईस्कूल के 1,29,784 व इंटर के 1,13,166 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं।

क्या कहते हैं बोर्ड परीक्षार्थी

स्थानीय राजा आनंद सिंह जीजीआईसी तथा समीपवर्ती जीआईसी हवालबाग के बोर्ड परीक्षार्थियों का कहना है कि छात्र-छात्राओं के बेहतर हितों के लिए परीक्षा तिथि व कार्यक्रम जल्द से जल्द घोषित किया जाना चाहिए। परीक्षार्थियों संस्कृति बिष्ट, अंबिका बगड्वाल, मानसी बिष्ट, प्रियंका जाेशी, नेहा पांडे, करिश्मा कांडपाल, कनिका गुरुरानी, रिया जोशी, शिवानी पांडे, कृष्णा आर्या, हिमांशु भटट, तुषार बिष्ट, वैभव साह, अभिषेक नेगी, दीया राजौरिया व मोनिका हलदार ने पढ़ाई को समय प्रबंधन के लिए जल्द परीक्षा तिथि व कार्यक्रम जारी करने की आवश्यकता बताई है।

परीक्षा कार्यक्रम को लेकर जल्द बैठक

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा एवं परीक्षा परिषद के अपर सचिव एनसी पाठक बताते हैं कि बोर्ड, परीक्षार्थियों के हितों के प्रति गंभीर है। परीक्षा तिथि व कार्यक्रम घोषित किए जाने के संबंध में जल्द ही बैठक शासन के साथ होगी। बैठक में लिए गए निर्णय के आधार पर परीक्षा तिथि घोषित कर परीक्षा कार्यक्रम तैयार किया जाएगा।

Edited By: Skand Shukla