जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : देहरादून में राज्य के सांस्कृतिक दलों का नुक्कड़ आदि का तीन जनवरी से आडिशन होने पर यूएस नगर के दो सांस्कृतिक दलों के संचालकों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने कलक्ट्रेट भवन की छत पर चढ़ कर कहा कि यदि देहरादून में आडिशन किया गया तो छत से कूदकर जान दे देंगे। इसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। इससे कलक्ट्रेट के अधिकारियों-कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। आनन फानन मौके पर पहुंचे एसडीएम ने दोनों संचालकों को किसी तरह समझा बुझाकर वार्ता करने को राजी कराया। इससे प्रशासन व पुलिस ने राहत की सांस ली।

सरकारी योजनाओं का लाभ जनता तक पहुंचाया जा सके। इसके लिए जिले स्तर पर सांस्कृतिक दलों के माध्यम से जागरुकता कार्यक्रम चलाया जाता है। यह काम दल नुक्कड नाटक आदि सांस्कृतिक कार्यक्रम से करते हैं। दलों को यह जिम्मेदारी आडिशन के आधार पर दिया जाता है। जिला सूचना विभाग में जिले के आठ सांस्कृतिक दल शनिवार को पहुंचकर यूएस नगर में ही आडिशन कराने की मांग की। साथ ही अपनी समस्याएं गिनाईं। इस पर जिला सूचना अधिकारी संजय छिमवाल ने कहा कि देहरादून में ही आडिशन देना होगा। देहरादून में तीन से सात जनवरी तक आडिशन चलेगा। इससे खफा परिवर्तन सेवा दल के संचालक सुंदर सिंह और महिला एवं बाल विकास मजदूर उत्थान समिति के संचालक उमेश कुमार कलक्ट्रेट भवन की छत पर चढ़कर यूएस नगर में ही आडिशन कराने की मांग की। कहा कि जिले में खटीमा के सिर्फ चार दलों को ही काम मिलता है। इसके अलावा किसी दल को दो साल से एक भी काम नहीं मिला है। ऐसे में देहरादून में आडिशन कराया जा रहा है। एक दल में तीन से 16 लोग सदस्य होते हैं। इतने लोगों को देहरादून में ले जाने-अाने में 25 से 30 हजार रुपये खर्च हो जाएंगे। जबकि कमाई का कोई जरिया नहीं है।

कुमाऊं में पुराने करीब 110 सांस्कृतिक दल सूचना विभाग में पंजीकृत हैं, जबकि कई नए सांस्कृतिक दल भी हैं।पहले कुमाऊं का अल्मोड़ा में और गढ़वाल का देहरादून में आडिशन होता था।  इस बार देहरादून में आडिशन कराया जा रहा है। देहरादून में कोरोना संक्रमण ज्यादा फैला है। यदि कोई इस संक्रमित होगा तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। यदि सरकार इसकी जिम्मेदारी ले तो जरुर आडिशन के लिए जाएंगे। आडिशन में आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी मांगी जा रही है। कहा कि सूचना निदेशक रणवीर सिंह चौहान को ज्ञापन भेजकर यूएस नगर में आडिशन कराने की मांग की गई। इस संबंध में शुक्रवार काे मोबाइल पर बात की तो निदेशक चौहान ने कहा कि जो मर्जी करना है करो, देहरादून में ही आडिशन होगा। उनकी मांग को नहीं सुना जा रहा है। यदि उनकी मांग पर जल्द गौर नहीं किया गया तो वह छत से कूदकर जान देंगे। इसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

उन्होंने सूचना विभाग पर मनमानी करने का आरोप लगाया। सूचना पर एसडीएम प्रत्यूष सिंह व तहसीलदार नीतू डांगर, पंतनगर थाने से पुलिस कर्मी और कर्मचारी मौके पर पहुंच गए। एसडीएम के कहने पर भी उमेश व सुंदंर अपनी मांग पर अड़े रहे। काफी समझाने के बाद दोनों युवक वार्ता करने को राजी हुए। एसडीएम ने अपने दफ्तर में जिला सहायक सूचना अधिकारी नदीम की मौजूदगी में सांस्कृतिक दलों से वार्ता से वार्ता की। इस दौरान एसडीएम नेउच्च अधिकारियों से वार्ता करने का भरोसा दिलाया। कलक्ट्रेट परिसर में इस घटना को कई लोगों ने मोबाइल में वीडियो बनाया। इस मौके पर अनीता पंत, रामकृष्ण कनौजिया, देवाशीष मंडल, आरिफ आदि मौजूद थे।

Edited By: Prashant Mishra