संवाद सूत्र, गदरपुर : पालिकाध्यक्ष पर कार्रवाई की मांग को व्यापारी थाने पर धरने पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। बाद में पुलिस ने व्यापारियों को खदेड़ कर थाने से बाहर कर दिया। बाद में व्यापारियों का गुस्सा देख पुलिस प्रशासन ने व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल को बुलाकर वार्ता की और चार दिन में कार्रवाई का आश्वासन दिया।

गदरपुर निवासी चंद्रकांता पत्नी वीरेंद्र मुंजाल, सुमन बाला पत्नी इंद्रजीत निवासी कुलवंत नगर, शमीमा परवीन पत्नी जरीफ वार्ड नंबर 6 गदरपुर द्वारा तीन जून को थाने में तहरीर दी थी। उन्होंने कहा था कि उनकी दुकान 1625 वर्ग फिट मुख्य बाजार में राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है। दुकानों के जरिए पंजीकृत बैनामा वर्ष, 2019 में की गई थी, जिसका बैनामा 16 अप्रैल, 2019 को सब रजिस्ट्रार बाजपुर में दर्ज हुआ था। दो वर्ष पूूर्व दुकानों के नामांतरण के लिए नगरपालिका में आवेदन किया गया था। वह अपनी भूमि पर निर्माण कार्य कर रहे थे। इस बीच पालिका के कुछ कर्मी निर्माण रुकवा दिया। व्यापारियों ने थाने में धरना देते हुए पालिका कर्मियों पर पांच लाख रुपये मांगने का आरोप लगाया।

इसकी शिकायत के बाद भी थानाध्यक्ष ने पालिकाध्यक्ष पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद व्यापार मंडल अध्यक्ष दीपक बहेड, कांग्रेस नेता सिद्धार्थ अरोड़ा के नेतृत्व में व्यापारियों ने अवगत कराया था। व्यापार मंडल अध्यक्ष एवं नगर कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धार्थ अरोड़ा के नेतृत्व में शुक्रवार को थानाध्यक्ष सतीश कापड़ी का घेराव कर पालिकाध्यक्ष पर केस दर्ज करने की मांग की। कार्रवाई न होने से खफा व्यापारी थाने में धरने पर बैठ गए और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। सूचना पर अपर पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार, सीओ वंदना, केलाखेड़ा थाना अध्यक्ष भुवन जोशी, बाजपुर थानाध्यक्ष संजय कुमार पांडे, दिनेशपुर थानाध्यक्ष अशोक कुमार मौके पर पुलिस टीम के साथ पहुंच गए थे और व्यापारियों को बाहर जाने को कहा। सभासद परमजीत पम्मा और मनोज गुंबर ने जाने से इन्कार कर दिया तो पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए व्यापारियों और सभासदों को थाने से बाहर कर दिया। पम्मा से नोकझोंक भी हुई।

व्यापारियों का गुस्सा देख अपर पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार ने व्यापारियों के पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से वार्ता करने को कहा। प्रतिनिधिमंडल में भाजपा नेता रङ्क्षवद्र बजाज, सभासद परमजीत पम्मा, मनोज कुमार, व्यापार मंडल अध्यक्ष दीपक बेहड़ और आरपी ङ्क्षसह ने पुलिस से वार्ता की तो पुलिस ने चार दिन में जांच कर कार्रवाई करने का भरोसा दिया। इस पर व्यापारी शांत हो गए। पालिका अध्यक्ष गुलाम गौस का कहना था कि व्यापारियों ने फर्जी तरीके से रजिस्ट्री कराई है। जब व्यापारी अपना निर्माण कार्य कर रहे थे तो उस दौरान पालिका कर्मी कार्य को रुकवाने गए तो व्यापारियों ने उनसे गाली-गलौज की थी। उन पर पैसे मांगने का आरोप निराधार है।

इस मौके पर तहसीलदार देवेंद्र ङ्क्षसह बिष्ट कृष्ण लाल सुधा, कृष्ण लाल अनेजा, राहुल अनेजा, पारस धवन, चिराग मुरादिया एसपी ङ्क्षसह, अनिल गगनेजा, विमल गगनेजा, अंकित मुंजाल, आकाश कोचर, सुरेश खुराना, विनोद फौगाट, लवेश ग्रोवर, डा. आरके महाजन मनोज रघुवंशी, अजय गाबा, मोहम्मद आलम, दीपक जैन विकास, नवीन खेड़ा, राजकुमार खेड़ा, सक्षम ग्रोवर मौजूद रहे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप