जागरण संवाददाता, चम्पावत : जिलाधिकारी विनीत तोमर ने राजस्व विभाग के अधिकारियों को विभिन्न प्रकार के प्रमाण पत्र संबंधी आवेदनों का निस्तारण हर हाल में 15 दिन के भीतर करने के निर्देश दिए। राजस्व वसूली में लेट लतीफी होने पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने सभी तहसीलदारों को गांवों में जाकर खसरा, खतौनियों का भौतिक सत्यापन करने को कहा।

सोमवार को जिला सभागार में हुई बैठक में उन्होंने सभी एसडीएम व तहसीलदार समेत राजस्व विभाग के अन्य अधिकारियों को वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने बैंक वसूली, राजकीय देय, नगरपालिका में भवन कर, खनन, सहकारिता स्वच्छता शुल्क, किराया आदि से राजस्व प्राप्ति की धीमी गति पर नाराजगी जताई। लंबित चल रहे विभिन्न मामलों को भी शीघ्र निस्तारित करने केनिर्देश दिए। कहा कि जिस स्तर का मामला हो इसे उसी स्तर पर निस्तारित किया जाए। साथ ही मामलों को अनावश्यक स्थानांतरित न करने के निर्देश दिए। उन्होंने तहसीलदार तथा एसडीएम को प्रमाणपत्र संबंधी आवेदनों का निस्तारण 15 दिन के अंदर करने को कहा। ताकि जनता को परेशान न होना पड़े।

अधिकारियों को पुनर्वास किए जाने वाले आपदा मामलों के प्रस्ताव तैयार करने, आबकारी दुकानों में ओवर रेट को रोकने, तहसील दिवसों के सभी प्रकरणों को समय पर निस्तारित करने के निर्देश भी दिए। जिलाधिकारी ने एसडीएम लोहाघाट को लोहाघाट में पार्किंग बनाने संबंधी कार्य को जल्द पूरा करने को कहा। बैठक में एडीएम शिवचरण द्विवेदी, एसडीएम सदर अनिल चन्याल, एसडीएम पूर्णागिरी हिमांशु कफल्टिया, पाटी की एसडीएम रिंकू बिष्ट तथा लोहाघाट के केएन गोस्वामी, सीओ अविनाश वर्मा के आलवा सभी तहसीलों के तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार, मुख्य कृषि अधिकारी राजेंद्र उप्रेती, डीडीएमओ मनोज पांडेय, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी गोपाल दत्त पांडेय तथा भागवत प्रसाद पाण्डेय सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Edited By: Prashant Mishra