रामनगर, जेएनएन : ग्राहकों से पांच लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में एसबीआइ के पूर्व बैंक मैनेजर कानूनी शिकंजे में फंस गए। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के 11 माह बाद आरोपित पूर्व मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया। 

पीरूमदारा स्थित एसबीआइ की शाखा में तैनात मैनेजर गोपाल सिंह ने पिछले साल अगस्त में अपनी ही शाखा के पूर्व मैनेजर अमित सिंह के खिलाफ पांच लाख रुपये गबन करने की तहरीर दी थी। तहरीर में बताया गया था कि 27 जून 2013 से 21 जुलाई 2016 तक अमित सिंह बैंक में मैनेजर था। इसके बाद उनकी तैनाती बागेश्वर जिले के कपकोट स्थित बैंक में हुई। जहां से वह बैंक से जुड़े एक अन्य मामले में निलंबित चल रहे हैं। पुलिस ने जांच के बाद आरोपित पूर्व मैनेजर के खिलाफ धोखाधड़ी व विश्वास का अपराधिक हनन की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। बैक मैनेजर ने बैंक की अंतरिम जांच रिपोर्ट भी पुलिस को मुहैया कराई थी। गुरुवार को पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में वांछित चल रहे आरोपित को धर दबोचा। चौकी प्रभारी कवींद्र शर्मा ने बताया कि आरोपित को पीरूमदारा गांव से ही गिरफ्तार किया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया। 

यह था धोखाधड़ी का पूरा मामला

मैनेजर पर आरोप था कि उसके द्वारा ग्राहक रणवीर सिंह के केसीसी खाते से 16 सितंबर व 19 जून 2015 को डेढ़-डेढ़ लाख रुपये निकाल लिए। इतना ही नहीं भुबन चंद्र पांडे ने भी अपनी पत्नी के खाते में जमा करने के लिए मैनेजर अमित को बीस हजार रुपये दिए थे, जो जमा नहीं किए गए। तीसरे खाताधारक सतवीर सिंह के केसीसी खाते से भी 19 जून 2016 को धोखाधड़ी करके 1.80 लाख रुपये की रकम निकाली थी। खाताधारकों ने जब शिकायत नए मैनेजर गोपाल सिंह से की तो जांच की गई। जिसमें पांच लाख रुपये के गबन की पुष्टि हुई थी।

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप