रामनगर, जागरण संवाददाता : कार्बेट पार्क के कालागढ़ में पल रहे कंचंभा हथिनी का शिशु सावन तीन साल का होने जा रहा है। दो अगस्त को वह चौथे साल में प्रवेश करेगा। पार्क प्रशासन उसका जन्मदिन मनाने की तैयारी कर रहा है। बता दें कि कॉबेट पार्क में उसके पहले जन्‍मदिन से ही आयोजन होते रहे हैं। कॉर्बेट प्रशासन केक तैयार कर धूमधाम से सावन बर्थडे सेलीब्रेट करता है।

दरअसल वर्ष 2015 में दो हथिनियों की उम्र 60 साल से अधिक हो गई थी। ऐसे में कार्बेट प्रशासन ने उन्‍हें सम्मान विदाई देकर रिटायर कर दिया था। इसके बाद गश्त के लिए हाथियों की कमी होने पर कार्बेट प्रशासन ने वर्ष 2017 में कर्नाटक से नौ हाथी मंगाए थे। उसमें एक कंचंभा नाम की हथिनी कर्नाटक से ही गर्भवती थी। दो अगस्त 2018 को उसने बच्चे को जन्म दिया था। अधिकारियों व वन कर्मियों ने उसका नाम सावन रखा। शरारत भरे उसके व्यवहार से हर वनकर्मी सावन का मुरीद है।

दो अगस्त 2019 को एक साल का होने पर कार्बेट प्रशासन ने सावन का धूमधाम से जन्मदिन मनाया था। इसके बाद 2020 में दूसरा जन्मदिन मना था। दो अगस्त 2021 को सावन तीन साल पूरे कर लेगा। ऐसे में कार्बेट के अधिकारी कालागढ़ कैंप में उसका तीसरा जन्मदिन मनाने की तैयारी कर रहे हैं। कार्बेट के निदेशक राहुल ने बताया कि सावन चौथे साल में प्रवेश करेगा। उसका जन्मदिन हर साल धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार भी उसका जन्मदिन मनाया जाएगा। उसके लिए हरा चारा व खाद्य सामग्री से निर्मित केक तैयार किया जाएगा।

कार्बेट पार्क प्रबंधन ने सावन का फेसबुक पेज भी बनाया

कार्बेट टाइगर रिजर्व का नन्हा हाथी सावन अब सोशल मीडिया पर लोगों को नजर आएगा। सीटीआर ने तीन साल के हाथी के बच्चे सावन का फेसबुक पेज बनाया है। हालांकि अभी तक कोई प्रतिक्रिया सावन के फेसबुक पेज पर नहीं आई है। कार्बेट टाइगर रिजर्व में 2017 में कर्नाटक से नौ हाथियों को कार्बेट पार्क लाया गया था। इनमें कंचंभा नाम की हथिनी कर्नाटक से ही गर्भवती थी। कार्बेट आकर गर्भवती हथिनी ने दो अगस्त 2018 में कालागढ़ हाथी कैंप में नर बच्चे को जन्म दिया था। तब कार्बेट प्रशासन ने पूजा अर्चना कर नर बच्चे का नाम भगवान शिव के नाम पर शंभु रखा था। लेकिन कुछ ही दिन में विभाग ने उसका नाम बदलकर सावन रख दिया था। अब हाथी के बच्चे सावन के नाम पर फेसबुक पेज बनाया है। जिसमें नन्हें सावन की चार फोटो अपलोड की गई है। कार्बेट प्रशासन का कहना है कि फेसबुक पेज चार दिन पहले बनाया गया था। हालांकि पेज को महज आठ ही लोगों ने अब तक लाइक किया है।

Edited By: Skand Shukla