अल्मोड़ा, जेएनएन : फांसी पर झूली युवती का करीब चार माह बाद दोबारा पोस्टमार्टम कराया गया। मृतका के परिजनों ने उसके प्रेमी पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया था। दावा किया था कि वह गर्भ से थी। पहले पोस्टमार्टम पर भरोसा न होने का हवाला दे उन्होंने प्रशासन से दोबारा कार्यवाही का आग्रह किया था। इसी आधार पर पैनल ने पुन: पोस्टमार्टम किया।

 

मामला बीती 23 जून का है। पनवाद्योखन क्षेत्र (सल्ट ब्लाक) की एक युवती घर पर ही फंदे पर झलती मिली थी। 24 को उसका पोस्टमार्टम कर परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया था। मृतका के परिजनों का आरोप था कि उसके प्रेमी ने उसे आत्महत्या के लिए उकसाया। तहरीर के आधार पर बीती 24 जुलाई को पनवाद्योखन निवासी हरीश उर्फ हरू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया था।

 

गोविंद सिंह माहरा नागरिक चिकित्सालय रानीखेत के सर्जन डाॅ. मुकेश जोशी ने बताया कि दफनाए गए शव को निकाल पोस्टमार्टम कर दिया गया है। हड्डी आदि के नमूने एकत्र पुलिस के सुपुर्द कर दिए हैं। आगे की कार्यवाही पुलिस अपने स्तर से करेगी। सल्ट की एसडीएम शिप्रा जोशी ने बताया कि पोस्टमार्टम व जांच संबंधी सीलबंद रिपोर्ट पुलिस प्रशासन को सौंप दी है। फोरेंसिक जांच कहां कराई जाएगी, यह पुलिस तय करेगी।

 

फोरेंसिक विशेषज्ञ को भी लिया साथ

सूत्रों के मुताबिक मृतका के परिजनों ने डीएम से दोबारा पोस्टमार्टम का आग्रह किया था। इस पर नागरिक चिकित्सालय के सर्जन डा. मुकेश जोशी के नेतृत्व में पैनल गठित किया गया। इसमें जिला मुख्यालय से फोरेंसिक विशेषज्ञ डा. अनंत प्रकाश व हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. डीएस नेगी शामिल रहे। एसडीएम के दिशा निर्देशन में दोबारा पोस्टमार्टम कर दिया गया है।

 

 

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021