जागरण संवाददाता, नैनीताल : Uttarakhand Uniform Civil Code: प्रदेश में समान नागरिक संहिता का ड्राफ्ट तैयार करने की प्रक्रिया तेज हो गई है। ड्राफ्ट तैयार करने को गठित कमेटी के विशेषज्ञों ने इसाई समुदाय और बार एसोसिएशन के साथ बैठक कर विभिन्न बिंदुओं पर सुझाव मांगे। लोगों ने समान नागरिक संहिता को प्रदेशवासियों के लिए उपयोगी बताया। साथ ही बुजुर्गों को बच्चों की संपत्ति में अधिकार देने, युवतियों की शादी की उम्र में बढ़ोत्तरी करने जैसे कई बिंदुओं को शामिल करने की पेशकश की।

कानून के लिए दिए ये सुझाव

सोमवार को नैनीताल क्लब में समान नागरिक संहिता समिति अध्यक्ष पूर्व जस्टिस रंजना देसाई, पूर्व जस्टिस सदस्य प्रमोद कोहली, मनु गौड़, शत्रुघ्न सिंह ने बैठक ली। विशेषज्ञों ने लोगों से विवाह की उम्र, शादी के बाद पंजीकरण, करीबी रिश्तेदारी में शादी, धर्म परिवर्तन, बुजुर्गों को बच्चों की संपत्ति में अधिकार, विवाह के बाद पिता की संपत्ति में बेटी का अधिकार, बच्चे गोद लेना जैसे बिंदुओं पर सुझाव मांगे। अधिवक्ताओं को संहिता के बिंदुओं को विस्तारपूर्वक बताने के साथ ही विशेषज्ञों ने इन कानूनों को लागू करने को लेकर विस्तृत वार्ता की।

सभी धर्म, समुदाय से लिए जा रहे सुझाव

समिति अध्यक्ष पूर्व जस्टिस रंजना देसाई ने कहा कि समय की जरूरत को देखते हुए प्रदेश सरकार ने समान नागरिक संहिता बनाने की कवायद शुरू की है, जिसके लिए फिलहाल ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है। जिसमें विभिन्न धर्म, समुदाय, श्रेणी के लोगों के सुझाव लिए जा रहे है। देखा जा रहा है कि यह सभी के लिए उपयोगी रहेगा कि नहीं। जल्द ड्राफ्ट तैयार कर सरकार को भेजा जाएगा।

बैठक में ये भी थे शामिल

बैठक में एडीएम शिवचरण द्विवेदी, अशोक जोशी, एसडीएम राहुल शाह, तहसीलदार नवाजीश खलीक, ईसाई समुदाय से रीटा सनवाल, फादर एलोइसिस नोरोना, एस विक्टर, धीरज जेम्स, शालिनी एरिक समेत अधिवक्ता गोपाल के वर्मा, ममता बिष्ट, अमन चड्ढा, नीरज साह, नितिन कार्की आदि थे।

Edited By: Rajesh Verma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट