हल्द्वानी, जेएनएन : कोरोना संक्रमण काल में लोग देशभर से अपने घरों को लौट रहे हैं। उत्तराखंड में भी रोजाना हजारों प्रयासी अपने मूल घरों में पहुंच रहे हैं। ग्राम प्रधानों को प्रवासियों को क्वारंटाइन रखने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। वहीं प्रदेश के पौड़ी जिले के विकास खंड नैनीडांडा की ग्राम भोपाटी की प्रधान जसोदा रावत व समाजेसवी डब्बल सिंह की ओर से प्रवासियों को क्वारंटाइन समय में रहने के लिए की गयी व्यवस्था राज्य के लिए मिसाल बन गयी है। नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने भी ग्राम प्रधान को फोन कर आपदा के समय में किए गए कार्यों की सराहना की।

ब्लाक नैनीडांडा के दूरस्थ भोपाटी गांव की प्रधान जसोदा रावत व डब्बल सिंह ने ग्रामीणों के सहयोग से नौ झोपड़ीनुमा क्वारंटाइन सेंटर बनाए हैं। इनमें बाहर से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन समय तक अकेले या परिवार के साथ रहने की सुविधा दी जा रही है। यही नहीं क्वारंटाइलन लोगों की जरूरतों का भी पूरा ध्यान रखकर उन्हें पूरा किया जा रहा है। उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने बताया कि नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने ग्राम प्रधान जसोदा को फोन कर कार्यों की सराहना की।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जसोदा रावत व डब्बल सिंह के कामों से प्रेरणा लेकर अन्य लाेगों को भी एकजुटता रखकर विपदा का सामना करना चाहिए। उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि शीघ्र ही ग्राम प्रधान जसोदा रावत व डब्बल सिंह रावत व ग्राम वासियों को सम्मानित किया जाएगा।

यह भी पढें : बाजार में क्वारंटाइन सेंटर बनाने के विरोध में उतरे व्‍यापारी, एसडीएम कोर्ट परिसर में दिया धरना

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस