हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : Last Tribute To Indira Hridyesh : उत्तराखंड की जनप्रिय नेत डा इंदिरा हृदेयश सोमवार को पंचतत्व में विलीन हो गईं। रानीबाग चित्रशिला स्थित घाट पर बेटे सुमित हृदयेश ने उन्हें मुखाग्नि दी तो हर किसी की आंखें नम हो गईं। जवनों ने शोक सलामी के दौरान शस्त्र झुका लिए। इस दौरान, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कैबिनेट मिनिस्टर बंशीधर भगत, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे, समेत बड़ी तादाद में सभी पार्टियों के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहे। इसके पहले मटरगली स्थित स्वराज आश्रम से अंतिम यात्रा निकाली। इस दौरान रास्ते में लोगों ने जगह-जगह फूलों की बारिश कर नम अांखों से अपने नेता का नमन किया।

स्वराज भवन में अंदिम दर्शन के लिए रखा गया पार्थिव शरीर

नेता प्रतिपक्ष डा इंदिरा हृदेयश के निधन के बाद अंतिम दर्शन को सुबह से नैनीताल रोड स्थित उनके आवास पर लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। सीएम तीरथ सिंह रावत, कैबिनेट मिनिस्टर बंसीधर् भगत, अरविंद पांडे, राज्यमंत्री रेखा आर्य, नवीन दुम्का, समेत अन्य बड़े नेता भी अंतिम दर्शन को पहुँचे थे। इस दौरान सीएम ने कहा कि इंदिरा हृदेयश का व्यक्तित्व ऐसा था कि वह दलगत राजनीति से ऊपर उठ विकास के लिए लड़ती थी। उनका निधन एक बड़ी क्षति है। राज्य सरकार पूरी कोशिस करेगी कि उनके अधूरे सपनों को पूरा किया जाएगा।

राजनैतिक और गैर राजनैतिक सभी पहुँचे

नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हृदेयश को श्रद्धांजलि देने के लिए भाजपा कांग्रेस के बड़े नेताओं का घर पहुँचने का सिलसिला जारी था। बीजीपी प्रदेश अध्य्क्ष मदन कौशिक व पूर्व पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय भी शोक जताने पहुँचे थे। जिला पंचायत अध्य्क्ष बेला तोलिया, पूर्व सांसद बलराज पासी, भाजपा संग़ठन मंत्री सुरेश भट्ट, कांग्रेस जिलाध्यक्ष सतीश नैनवाल, राहुल छिमवाल, बड़ी संख्या में पार्षद, समेत राजनैतिक व गैर राजनैतिक संगठनों से जुड़े लोग बड़ी संख्या में आवास पर मौजूद थे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Skand Shukla