जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : उत्तराखंड वनाधिकार कांग्रेस के प्रणेता और उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय प्रदेश में वनाधिकार क़ानून लागू करने और आन्दोलनरत किसानों को समर्थन देने के लिये नौ दिवसीय कुमाऊँ का दौरा करेंगे। उत्तराखंडियों को वनों पर उनके पुश्तैनी अधिकार व हक़-हकूक देने हेतु गत तीन वर्षों से अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत प्रदेश वासियों को बिजली-पानी नि:शुल्क देने, माह में एक रसोई गैस सिलेंडर निशुल्क देने, केन्द्र सरकार की सेवाओं में उत्तराखंडियों को अरण्यजन/गिरिजन मानते हुये केंद्र सरकार की सेवाओं में आरक्षण देने, घर बनाने के लिये लकड़ी-बजरी-पत्थर निशुल्क देने, जड़ी-बूटियों पर स्थानीय समुदायों का अधिकार देने, परिवार के एक सदस्य को पक्की सरकारी नौकरी देने, जंगली जानवरों द्वारा जनहानि होने पर 25 लाख रुपया मुआवज़ा, शिक्षा-स्वास्थ्य की निशुल्क सुविधा आदि देने की माँगे शामिल हैं। सरकार से इन सभी मांगों को मनवाने के लिए दबाव बनाया जाएगा। वंचितों को उनके अधिकारों के लिए लड़ाई जारी रखी जाएगी।

किशोर उपाध्याय 15 दिसंबर को देहरादून से चलकर 16 को  रूद्रपुर में किसान आंदोलन को समर्थन, 17 को खटीमा में उत्तराखंड के शहीदों को प्रणाम व श्रद्धांजलि देकर आंदोलन की सफलता हेतु प्रार्थना सभा, बिजली-पानी के बिलों की होली जलाई जायेगी। 18 को लोहाघाट, 19 को  पिथौरागढ़, 20 को  धारचूला, 21 को डीडीहाट, 22 को गंगोलीहाट, 23 भीमताल में बैठक के बाद हल्द्वानी में प्रेस के बाद देहरादून वापसी की जायेगी। राजेन्द्र भंडारी, शप्रेम बहुखंडी, पंकज रतूड़ी आदि वनाधिकार कांग्रेस के नेता भी देहरादून से साथ में होंगे।

 

Edited By: Prashant Mishra