रुद्रपुर, जागरण संवाददाता : Rail Roko Andolan : केन्‍द्रीय राज्‍य मंत्री को अजय मिश्रा टेनी को मंत्रिमंडल से निकालने की मांग को लेकर किसानों ने रुद्रपुर, काशीपुर, खटीमा में ट्रेन को रोककर प्रदर्शन किया। रुद्रपुर में किसान करीब एक मिनट ही ट्रेन रोक सके। पुलिस ने जबरन किसानों को ट्रैक से हटा दिया। काशीपुर में काशीपुर बरेली सिटी ट्रेन को किसान अभी तक रोक रखे हैं, जबकि खटीमा में किसानों ने 45 मिनट तक ट्रेन रोकी थी। इस दौरान किसानों ने केंद्रीय अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग की। ट्रेन समय से रवाना न होने पर यात्रियों को समस्याओं का सामना करना पड़ा।

लखीमपुर घटना के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के देशव्यापी रेल रोको के आह्वान पर सोमवार को यूएस नगर में किसानों ने ट्रेन रोककर प्रदर्शन किया। बरेली से रामनगर जा रही काशीपुर बरेली सिटी ट्रेन संख्या 05352 काशीपुर स्टेशन पर दोपहर 12 बजे पहुंची तो पहले से ही मौजूद रामनगर, जसपुर, बाजपुर व काशीपुर के किसानों ने ट्रेन को रोककर धरना प्रदर्शन शुरु कर दिया।ट्रैक से हटने के लिए प्रशासन ने किसानों को समझाने की कोशिश की, मगर किसान अपनी मांग पर अड़े रहे। किसानों ने यात्रियों को दूध व छाछ की व्यवस्था की है।

खबर लिखे जाने तक किसानों ने ट्रेन को रोक रखा था। खटीमा में पूर्णागिरी जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन खटीमा स्टेशन पर पहुंची तो किसानों ने ट्रेन को रोककर प्रदर्शन किया। हालांकि एसडीएम निर्मला बिष्ट व पुलिस अधिकारियों के समझाने के बाद किसान मान गए और ट्रेन रवाना हुई। ट्रेन के रवाना होने का निर्धारित समय 11 बजकर 57 मिनट पर था,मगर ट्रेन 12 बजकर 42 मिनट पर गंतव्य के लिए रवाना हुई। यानी निर्धारित से 45 मिनट देर से ट्रेन रवाना हुई। रुद्रपुर में किसान रेलवे फ्लाईओवर के नीचे धरने पर बैठे थे। करीब दो घंटे बाद जैसे ही जम्मू से काठगोदाम जाने वाली 04690 गरीब रथ सुपरफास्ट एक्सप्रेस रुद्रपुर सिटी रेलवे स्टेशन पर दोपहर 12 बजकर चार मिनट पर यानि 17 मिनट देर से पहुंची तो किसान ट्रेन रोकने के लिए सक्रिय हो गए। दो मिनट स्टापेज के बाद ट्रेन काठगोदाम के लिए रवाना हुई और ट्रेन की रफ्तार धीमी थी। कुछ दूर पहुंची तो फ्लाईओवर के नीचे बैठे किसानों ने ट्रेन को रोक दिया।

हालांकि एसडीएम प्रत्यूष सिंह ने पुलिस अधिकारियों व पुलिस कर्मियों के साथ किसानों को ट्रैक से जबरन हटवा दिया। किसान ट्रेन रोकने के लिए ट्रैक पर दौड़ने लगे तो पुलिस कर्मियों के पसीने छूट गए थे। प्रशासन की सतर्कता से किसान ट्रेन को करीब एक मिनट ही रोक पाए। भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष कर्म सिंह पड्डा ने कहा कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री पर 120 बी का मुकदमा दर्ज होने के बाद भी अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई। जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। किसानों ने कहा कि लखीमपुर घटना के दोषियों की गिरफ्तारी के साथ कृषि कानून वापस लेने की मांग की। साथ ही चेताया कि जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी, तब तक आंदोलन चलता रहेगा। इधर, ट्रेन समय से रवाना न होने पर यात्री समय से गंतव्य तक नहीं पहुंच सके और उन्हें काफी समस्याअाें का सामना करना पड़ा।

 

Edited By: Skand Shukla