जागरण संवाददाता, बागेश्वर : जिले में गुरुवार को सुबह से मौसम करवट बदलता रहा। धूप और छांव का खेल चला। दोपहर बाद आसमान में बादल छा गए और बारिश के आसार बने हुए हैं। कपकोट तहसील के दुलम गांव में भूस्खलन से बिजली के पोल ढह गए हैं। जिससे बीस गांवों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। गरुड़ में बारिश के कारण एक मकान क्षतिग्रस्त हो गया है। इसके अलावा दो ग्रामीण सड़कों को यातायात के लिए खोलने का प्रयास किया जा रहा है।

कपकोट तहसील के दुलम गांव से गुजर रही बिजली की लाइन भूस्खलन की भेंट चढ़ गई है। जिससे दुलम, बांसे, कफलानी, भैंसखाली, सौंग, सूपी, गांसी, काफली, पेठी, लाहुर, लोहारखेत, चौड़ास्थल चौड़ा, सुमगढ़, सलिंग, उडियार आदि गांवों की बिजली व्यवस्था ठप हो गई है। ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता भास्कर पांडे ने बताया कि ढहे पोलों को दुरुस्त किया जा रहा है। वर्तमान में मरम्मत का कार्य जारी है। इधर, आसमान में बादल छाए रहने से बारिश के आसार बने हुए हैं। कपकोट क्षेत्र में दो सड़कें अभी भी आवागमन के लिए बंद हैं। जेसीबी मशीनों से उसे खोला जा रहा है।

बारिश से घेटी में मकान क्षतिग्रस्त

गरुड़ : क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के चलते घेटी गांव में एक ग्रामीण का मकान क्षतिग्रस्त हो गया।उसके परिवार ने बमुश्किल भागकर अपनी जान बचाई।तहसीलदार तितिक्षा जोशी ने बताया कि बुधवार की रात्रि घेटी निवासी सुरेश राम पुत्र गणेश राम का मकान क्षतिग्रस्त हो गया है।

कांडा में मकान क्षतिग्रस्त

कांडा : बीती बुधवार की रात हुई बारिश से पटवारी क्षेत्र खंतोली के पतौंजा गांव निवासी भौन राम पुत्र तेज राम का आवासीय मकान क्षतिग्रस्त हो गया है। पीड़ित परिवार ने पड़ोसी के घर में शरण ली है। क्षेत्रीय पटवारी ने मौका मुआयना कर रिपोर्ट तहसीलदार को सौंप दी है। उधर, डंगोली में घेटी निवासी सुरेश राम पुत्र गणेश राम का मकान भी ध्वस्त हो गया है।

जिला आपदा अधिकारी शिखा सुयाल का कहना है कि मौसम विभाग के अनुसार अगले चार दिनों तक बारिश के आसार बने हुए हैं। बंद सड़कों को खोलने का कार्य युद्धस्तर से चल रहा है। दुलम में भूस्खलन के कारण विद्युत लाइन बाधित है और उसे दुरुस्त किया जा रहा है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Prashant Mishra