संवाद सहयोगी, चम्पावत : जिला मुख्यालय के दूरस्त गांव नैकियाना में चली आ रही पेयजल समस्या का जल्द समाधान हो जाएगा। जल संस्थान के कर्मचारी फाल्ट ढूंढने में जुट गए हैं। विभाग ने दो दिन के भीतर पेयजल आपूर्ति सुचारू करने का आश्वासन दिया है। दैनिक जागरण ने पेयजल समस्या से लॉकडाउन काल में ग्रामीणों को हो रही परेशानी को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसके बाद विभाग हरकत में आया है।

जल संस्थान के अपर सहायक अभियंता परमानंद पुनेठा ने बताया कि पेयजल लाइन टूटने से दियूरी ग्राम पंचायत के  नैकियाना गांव में पिछले 10 दिन से पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है। सूचना के बाद विभागीय कर्मचारी एक सप्ताह से लाइन का फाल्ट ढूंढ रहे हैं। उन्होंने बताया कि 20 किमी लंबी पेयजल लाइन विषम रास्तों से होकर आई है जिस कारण फाल्ट ढूंढने में दिक्कत हो रही है। उन्होंने बताया कि कफ्र्यू और कोरोना की विषम परिस्थितियों में बाजार बंद होने के कारण जरूरी सामान नहीं मिल पा रहा है, बावजूद इसके विभाग जल्द से जल्द पेयजल आपूर्ति सुचारू करने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने बताया कि दो दिन के भीतर जलापूर्ति सुचारू कर दी जाएगी।

इधर, पेयजल समस्या से परेशान ग्रामीणों दो माह से पानी न आने की शिकायत करते हुए विभागीय अधिकारियों पर फोन न उठाने का आरोप लगा रहे हैं। नाथ सिंह नेगी, भगवान सिंह, धीरज सिंह, विक्रम सिंह आदि का कहना है कि जल्द समस्या का समाधान नहीं हुआ तो कफ्र्यू काल में आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। दूसरी ओर इस माह हो रही बारिश के बाद भी जिले के पेयजल स्रोत रिचार्ज नहीं हो पाए हैं। जिला मुख्यालय में एक दिन छोड़कर वाहनों से पानी बांटा जा रहा है। ग्रामीण इलाकों में भी लोग हैंडपंपों के सहारे हैं।

ईई जल संस्थान बिलाल यूनूस का कहना है कि अधिकारियों और कर्मचारियों के फील्ड में रहने के कारण कई बार फोन नहीं मिल पाता। सभी को चौबीसों घंटे मोबाइल खुले रखने के निर्देश दिए गए हैं। पेयजल समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जा रहा है। नैकियाना गांव में शीघ्र ही आपूर्ति सुचारू कर दी जाएगी।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें