जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : कुमाऊं के लिए एक और बड़ी उपलब्धि है। डा. जेएस तितियाल को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नई दिल्ली (एम्स) के डा. राजेंद्र प्रसाद सेंटर फॉर आप्थलमिक साइंसेज के चीफ की अहम जिम्मेदारी मिली है। वह धारचूला क्षेत्र के दूरस्थ गांव तिदांग निवासी हैं। कुमाऊं के लिए यह बड़ी उपलब्धि है।

चिकित्सा क्षेत्र में डा. तितियाल का नाम देश-दुनिया में है। उन्होंने आंखों के इलाज से लेकर कॉर्निया ट्रांसप्लांट की नई विधि विकसित की है। करीब 10 साल पहले उन्होंने मृत व्यक्ति की आंख से लिए गए एक कॉर्निया को तीन अलग-अलग बीमारी से ग्रस्त लोगों की आंखों में ट्रांसप्लांट करने की विधि विकसित की थी। इस तरह की तमाम उपलब्धियों के लिए उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री सम्मान से नवाजा। साथ ही वह देश-दुनिया में तमाम महत्वपूर्ण पुरस्कार भी हासिल कर चुके हैं।

डा. तितियाल ने कक्षा आठ तक की पढ़ाई अपने गांव के ही स्कूल से हासिल की। उन्होंने इसके बाद एमएस आप्थोमोलॉजी की पढ़ाई लखनऊ में पूरी की। राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में नेत्र रोग विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. जीएस तितियाल उनके भाई हैं। उन्होंने जागरण को बताया कि नेत्र रोग विभाग में यह महत्वपूर्ण पद माना जाता है। इस उपलब्धि के लिए उन्हें कुमाऊं के अलावा पूरी दुनिया से बधाई मिल रही है।

दुनिया की बड़ी हस्तियों का कर चुके हैं आंख का ऑपरेशन

डॉ. तितियाल पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व सीएम शीला दीक्षित, सुंदरलाल बहुगुणा, मुरली मनोहर जोशी, नोबल पुरस्कार विजेता दलाई लामा सहित कई हस्तियों के आंखों का ऑपरेशन कर चुके हैं।

मिल चुका है अमरीकी पुरस्कार

विख्यात नेत्र सर्जन डॉ. तितियाल को अमेरिका का प्रतिष्ठित अचीवमेंट पुरस्कार भी मिल चुका है। एम्स के पचास वर्षों के इतिहास में इस सम्मान को हासिल करने वाले केवल तीन डॉक्टर शामिल हैं। अमेरिकन एकेडमी ऑफ ओप्थोमोलोजी की ओर से यह सम्मान दिया गया था।  इसके अलावा उन्हें रं समाज का सर्वश्रेष्ठ सम्मान रं रत्न से भी सम्मानित किया जा चुका है।

Edited By: Prashant Mishra