पिथौरागढ़ जागरण संवाददाता : सीमांत पिथौरागढ़ जिले में भारी बारिश मुसीबत का सबब बन गई है। सड़कों पर मलबा आने से कई मार्ग बंद हो गए हैं। टनकपुर-तवाघाट हाइवे पर धारचूला के करीब गवालगांव के पास भारी मलबा आने से हाईवे बंद हो गया है। एनएच पर दोनों तरफ से भारी संख्या में वाहन फंसे हैं। गर्बाधार-लिपुलेख मार्ग छंकनरे के पास टूटने से चीन सीमा का संपर्क भंग है। जौलजीबी-मुनस्यारी मार्ग घिंघरानी के पास बंद है। दोनों तरफ सुबह से वाहन फंसे हैं। थल मुनस्यारी मार्ग नाचनी के पाश नया बस्ती में बंद है। धारचूला-मुनस्यारी का संपर्क कटा हुआ है। जिले में 23 मार्ग बंद है।

कुमाऊं के मैदानी इलाकों में मानसून कमजोर पड़ा है, लेकिन पर्वतीय जिलों में झमाझ बारिश जारी है। भारी बारिश के कारण पहाड़ों से मलबे भी गिरने लगे हैं। पिथौरागढ़ जिले में शनिवार और रविवार को हुई भारी बारिश ने लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के कारण धारचूला मुनस्यारी का संपर्क भंग हो गया है। टनकपुर-तवाघाट हाइवे पर धारचूला के करीब पहाड़ी से मलबा आने के कारण दोनों वाहनों की कतार लग गई है। यात्री वाहनों में फंसे हैं। जौलजीबी-मुनस्यारी मार्ग घिंघरानी के पास बंद है। पिथौरागढ़ जिले में 21 मार्ग बंद हैं। दारमा मार्ग 45वें दिन भी नहीं खुल सका है। चंपावत जिले में टनकपुर-पिथौरागढ़ नेशनल हाईवे पर भारतोली के पास मलबा आने से बंद सड़क आठ दिन बाद भी नहीं खुल पाई है।

जिले में ये मार्ग हैं बंद

टनकपुर-तवाघाट हाईवे, जौलजीबी-मुनस्यारी, गर्बाधार-लिपुलेख मार्ग, तवाघाट-नारायण आश्रम, बांस-आंवलाघाट, सोसा-सिर्खा, छिरकिला-जम्कू, नाचनी-भैंस्कोट, मसूरीकांठा-होकरा, बांसबगड़-कोटा पंद्रहपाला, आदिचौरा-सीणी, कालिका -खुम्ती, सेराघाट-बुसैल, चंडाक-चमाली, पाताल भुवनेश्वर- दौलावालिया, तवाघाट-सोबला, तवाघाट-घटियाबगड्र, गर्बाधार-लिपुलेख, सोबला-दर-तिदांग, पंपाबे-उर्थिग।

Edited By: Skand Shukla