जागरण संवाददाता, अल्मोड़ा: 'जय जय बोला जय भगौती नंदा, नंदा ऊंचा कैलास की जय...'। नवमी पर समूचा पहाड़ अराध्य देवी मां नंदा एवं सुनंदा की भक्ति में रम गया। पर्वतीय वादियों में कुलदेवी की महिमा का बखान करते झोड़ा गीत गूंजने लगे तो स्तुतिगान ने माहौल को नंदामय कर दिया। वहीं ऐतिहासिक नंदा देवी मंदिर में लोक कलाकारों की जीवंत प्रस्तुति से गढ़ कुमौं (कुमाऊं गढ़वाल) की साझा गौरवशाली संस्कृति व परंपरा भी सजीव हो उठी। चंदराजवंश की धरोहर मंदिर प्रांगण के एक तरफ कुलदेवी की जागर लगी तो दूसरे छोर पर लोक में रचे बसे गीत नृत्य ने नंदा महोत्सव में चार चांद लगाए। 

बीती देर रात भजन एवं लोक गायिका खुशी जोशी ने भक्ति की रसधार बहाई। वहीं बुधवार को सर्वदलीय महिला समिति की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने मुग्ध किया। मुख्य अतिथि महिला जनगकल्याण समिति अध्यक्ष रीता दुर्गापाल रहीं। विशिष्टï अतिथि विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान, पालिकाध्यक्ष प्रकाश चंद्र जोशी, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, नगर अध्यक्ष पूरन सिंह रौतेला आदि ने उत्तराखंडी लोक संस्कृति को देश दुनिया में अनूठी बताया। खासतौर पर युवाओं से साझा संस्कृति व परंपरा को बरकरार रखने के लिए लोक से जुडऩे का आह्वïान किया। समिति अध्यक्ष मीना भैसोड़ा, गीता मेहरा, भगवती बिष्टï, गीता आर्या, लकी वर्मा, विद्या बिष्टï, सोनिया कर्नाटक, सुधा पंत, गीता आर्या के साथ ही मेला संयोजक मनोज सनवाल, परितोष जोशी, किरन पंत, शांति साह, प्रीति बिष्टï, लता तिवारी, राधा तिवारी, अनीता रावत आदि मौजूद रहे। कार्यक्रम देर रात तक चले। 

उत्तराधिकारी केसी बाबा ने किया नवमी पूजन 

इससे पूर्व चंदराजवंश के उत्तराधिकारी नैनीताल सांसद राजा केसी सिंह बाबा, उनके पुत्र नरेंद्र चंद सिंह आदि ने ऐतिहासिक मां नंदादेवी मंदिर में नवमी पूजन किया। राजपुरोहित पं. नागेश चंद्र पंत ने धार्मिक अनुष्ठान कराए। नवमी पर श्रद्धालुओं का रेला उमड़ा। गुरुवार को भी महिलाओं के झोड़ा खास आकर्षण रहेंगे। 

Edited By: Prashant Mishra