जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : केंद्र व राज्य सरकार की रोजगारपरक योजनाओं की प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने व बैंक से लोन पास करवाने व सब्सिडी दिलाने के नाम पर युवाओं के सपनों का सौदा हो रहा है। इसके एवज में तीन से पांच हजार रुपये तक वसूले जा रहे हैं। रामनगर व कालाढूंगी में ऐसे मामले सामने आए हैं।

केंद्र सरकार के पीएम रोजगार सृजन कार्यक्रम, राज्य की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, नैनो स्वरोजगार योजना के लिए आनलाइन आवेदन करना होता है। आवेदन के साथ संबंधित रोजगार की प्रोजेक्ट रिपोर्ट भी वेबसाइट पर अपलोड करनी होती है। प्रोजेक्ट रिपोर्ट के आधार पर ही लागत परखने के बाद बैंक लोन की धनराशि तय करते हैं।

इसका फायदा उठाने के लिए दलाल सक्रिय हो गए हैं। साइबर कैफे या जनसेवा केंद्रों पर आवेदन की 50 व 100 रुपये शुल्क लेना आम बात है, लेकिन दलाल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने से लेकर आवेदन स्वीकृत व लोन करवाने तक की गारंटी देकर पांच हजार रुपये तक वसूले रहे हैं। शिकायतें आने के बाद उद्योग विभाग के महाप्रबंधक ने सावधान करते हुए सार्वजनिक नोटिस जारी किया है।

यह है आवेदन स्वीकृति की प्रक्रिया

आनलाइन आवेदन के बाद स्कूटनी होती है। डीएम या उनके ओर से नामित अधिकारी की अध्यक्षता वाली टास्क फोर्स कमेटी आवेदकों के साक्षात्कार लेती है। आवेदन फार्म संबंधित बैंक जाते हैं। क्षेत्र का निरीक्षण करने व अन्य जरूरी चीजें देखने के बाद बैंक आवेदन स्वीकार कर सब्सिडी के लिए जिला उद्योग केंद्र भेजते हैं। तब मुख्यालय से लोन की सब्सिडी आती हैं। ऐसे में कोई लोन कराने झांसा दे रहा तो आपको ठग रहा है।

दलालों के बजाय अधिकारियों से करें संपर्क

सुभाष चंद्रा : हल्द्वानी, कोटाबाग, मो. 9837378030

पंकज चौहान : ओखलकांडा, धारी, मो. 7500211001

देवेंद्र मेहता : भीमताल रामगढ़, रामनगर, मो. 7351203329

मोहित वाल्मीकि : बेतालघाट, मो. 7017251374

दलालों से बचें

जीएम जिला उद्योग केंद्र हल्द्वानी विपिन कुमार ने बताया कि दलालों के सक्रिय होने की शिकायत आई है। ऐसे लोगों से बचें। आनलाइन आवेदन, प्रोजेक्ट बनवाने में मदद के लिए जिला उद्योग केंद्र में दो कर्मचारी नियुक्त किए हैं।

Edited By: Skand Shukla