हल्द्वानी, जेएनएन : इस पंचायत चुनाव में कई उम्मीदवारों को उम्मीद से अधिक वोट मिले तो कइयों को एक-एक वोट के लिए तरसना पड़ा। वोटर को लुभाने में फेल रहे अधिकांश उम्मीदवार जमानत तक बचाने में नाकामयाब रहे। हल्द्वानी विकासखंड में ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ रहे करीब 90 से अधिक दावेदार जमानत नहीं बचा सके।

हल्द्वानी विकासखंड की जिन ग्राम पंचायतों में प्रधान पद पर तीन या उससे अधिक उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे, वहां सबसे अधिक जमानत जब्त हुई है। हालांकि दो दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों में सभी प्रत्याशी जमानत बचाने में कामयाब रहे। विकासखंड की 57 ग्राम पंचायतों में 200 से अधिक दावेदारों के बीच चुनाव लड़ा गया था। आरओ एके कटारिया ने बताया कि पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान पद पर दावेदारी पेश करने वाले उम्मीदवारों को उनके क्षेत्र में हुए कुल मतदान का पांच फीसद वोट लाना जरूरी था। ऐसा न होने पर जमानत के तौर पर जमा की गई धनराशि जब्त हो जाती है। इसे छुड़ाने के लिए निर्वाचन आयोग के नियमानुसार कार्रवाई पर अमल करना पड़ता है।

सबसे अधिक जमानत जब्त

ग्राम पंचायत                  इतने की जमानत जब्त

किशनपुर सकुलिया         छह

जगतपुर                        तीन

दुम्काबंगर बच्चीधर्मा      तीन

चांदनी चौक घुड़दौड़ा       तीन

धौलाखेड़ा                      तीन

हल्दूचौड़ जग्गी              तीन

देवला तल्ला                  तीन

किशनपुर रैक्वाल           तीन

घूनी नंबर एक               दो

देवला मल्ला                 दो

सीतापुर                       दो

लछमपुर                      दो

हल्दूचौड़ दौलिया           दो

बसंतपुर                      दो

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप