जागरण संवाददाता, बागेश्वर : पर्वतारोहियों की खोज के लिए प्रशासन दिन भर रणनीति बनाते रहा। पिंडारी कफनी, सरमूल ग्लेशियर और सुंदरघाटी आदि आदि स्थानों पर फंसे पर्यटकों को सुरक्षित लाने के लिए रेस्क्यू अभियान चलाया गया। जिलाधिकारी विनीत कुमार ने बताया कि पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक पर द्वाली में 18 देसी पर्यटक, छह विदेशी और दस स्थानीय गांव के लोग शामिल हैं। जिनकी कुल संख्या 34 है। 

कफनी ग्लेशियर ट्रैक पर 20 गांव के लोगों के फंसे होने की सूचना है। इसके अलावा सुंदरढूंगा ग्लेशियर ट्रैक पर छह पर्यटक गए थे। जिसमें चार की मौत हो गई है। जिसमें दो पर्यटक लापता हैं। उन्होंने बताया कि तहसील कपकोट से राजस्व विभाग, पुलिस, वन विभाग की दो टीमें बीते 20 अक्टूबर को रवाना हो गई थीं। जबकि गुरुवार को दो अन्य टीमें भी राहत-बचाव के लिए लगाई गईं हैं। हेलीकाप्टर से बचाव अभियान शुरू किया गया है। 

इधर, द्वाली में फंसे 42 पर्यटकों को हेलीकाप्टर के माध्यम से खरकिया पहुंचा दिया गया है। वहां से वाहनों के जरिए वह जिला मुख्यालय पहुंचेंगे। कपकोट से वाहनों को खरकिया की तरफ रवाना कर दिया गया है। द्वाली में फंसे सभी पर्यटक सुरक्षित हैं। जिला आपदा अधिकारी शिखा सुयाल ने बताया कि सुंदरढूंगा क्षेत्र में रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है। लेकिन अभी तक वहां से किसी भी प्रकार की सूचना प्राप्त नहीं हो सकी है। चार टीमें रेस्क्यू अभियान पर हैं। जिलाधिकारी विनीत कुमार कपकोट में पल-पल की जानकारी ले रहे हैं।

Edited By: Prashant Mishra