हल्द्वानी, जेएनएन : डीएम सविन बंसल ने 28 दिन बाद फिर डेेंगू से निपटने की तैयारियों को लेकर बैठक ली। उन्होंने अधिकारियों को तैयारियों को लेकर निर्देश दिए और कहा कि कोरोना के साथ-साथ डेंगू व मलेरिया की रोकथाम के लिए आवश्यक कदम उठा लिए जाएं। डेंगू की बढ़ती संख्या को देखते हुए डेंगू मरीजों का इलाज कोविड-19 के लिए अधिग्रहित किए गए निजी अस्पतालों में भी होगा। इस दौरान एसटीएच की पैथोलॉजी लैब हर समय सक्रिय रहेगी।

सोमवार को कैंप कार्यालय में आयोजित बैठक में डीएम ने कहा कि पिछले वर्ष डेंगू की स्थिति का अध्ययन कर पूरी तैयारी कर ली जाए। इस वर्ष वर्षा जनित रोग डेंगू, मलेरिया व कोविड-19 के समानांतर अस्तित्व में रहेंगे। ऐसे में लोगों को बचाव के लिए अभियान शुरू कर दें। नगर निगम तथा नगर निकायों के अधिकारियों से कहा कि नालों की सफाई व दैनिक सफाई व्यवस्था चरणबद्व तरीके से की जाए। सीएमओ से कहा कि कम से कम पांच हजार किट खरीद ली जाए। एसीएमओ डॉ. रश्मि पंत से कहा कि प्राइवेट पैथौलॉजी लैब में डेंगू सैंपल की दरें अभी से तय कर ली जाए। वहीं, डीएम ने दो जून को बैठक ली थी। तब भी यही निर्देश दिए थे।

 

ये दिए हैं निर्देश

  • - युद्ध स्तर पर फॉगिंग कार्य किया जाए
  • - नगर पालिकाएं फॉगिंग मशीन क्रय कर लें।
  • - एसटीएच व बेस चिकित्सालय एलाइजा किट उपलब्ध करा लें।
  • - अस्पतालों में डेंगू वार्ड सात जुलाई तक तैयार कर लें
  • - पेयजल टैंकरों की सफाई करा लें

बैठक में ये रहे मौजूद

बैठक में नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया, राजकीय मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ. सीपी भैंसोड़ा, एसटीएच के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एके जोशी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनोज कांडपाल, सीएमएस डॉ. भागीरथी जोशी, डॉ. हरीशलाल आदि शामिल रहे।

पतंजलि की विवादित दवा कोरोनिल का मामला अब उत्तराखंड हाईकोर्ट पहुंचा, सुनवाई आज 

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस