जागरण संवाददाता, हल्द्वानी: एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) के विशेषज्ञों की टीम ने मंगलवार को बहुप्रतीक्षित जमरानी बांध परियोजना क्षेत्र का दौरा किया। एडीबी टीम, अफसरों के साथ कमिश्नर राजीव रौतेला ने भी बैठक की। जिसमें एडीबी का दृष्टिकोण सकारात्मक रहा है। इसके बाद एडीबी के अधिकारी देहरादून रवाना हो गए। टीम के विशेषज्ञ बुधवार को परियोजना से जुड़े विभागों के सचिव स्तर के अफसरों व गुरुवार को मुख्य सचिव के साथ बैठक करेंगे।

एडीबी की छह सदस्यीय टीम में वाटर रिसोर्स, इनवायरमेंट समेत अन्य विशेषज्ञ शामिल थे। बीते सोमवार को डूब क्षेत्र में आने वाले गांवों के लोगों से वार्ता के बाद मंगलवार को टीम के सदस्यों ने जमरानी बांध परियोजना क्षेत्र का दौरा किया। सिंचाई, पेयजल, विद्युत व वन विभाग के अफसरों ने एडीबी टीम के सामने प्रजेंटेशन के माध्यम से अपने-अपने विभाग की तैयारियों व बांध बनने से होने वाले फायदों की जानकारी दी।

इधर, आयुक्त ने बताया कि परियोजना को पर्यावरणीय व वित्तीय स्वीकृतियां मिलने के बाद वित्त प्रबंधन के लिए एडीबी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। अफसरों की ओर से बांध निर्माण के लिए किया गया होमवर्क एडीबी की टीम को सौंप दिया गया है। धारा 11 के तहत डूब क्षेत्र में आने वाले लोगों की भूमि अधिकृत की जाएगी। इस दौरान डीएम सविन बंसल, डीएम ऊधमसिंह नगर डॉ. नीरज खैरवाल, सिंचाई विभाग के विभागाध्यक्ष मुकेश कुमार, मुख्य अभियंता मोहन चंद्र पांडे, अधीक्षण अभियंता संजय शुक्ल, एडीएम वित्त सुरेंद्र सिंह जंगपांगी, एडीएम नजूल जगदीश चंद्र कांडपाल आदि मौजूद थे।

==========

ग्रामीणों ने फिर उठाई 12 मांगें

जमरानी बांध स्थल पर एडीबी टीम व सरकारी महकमों के अफसरों के पहुंचने का पता चलने पर ग्रामीण भी पहुंच गए। बांध निर्माण संगठन के संयोजक डॉ. केदार पलड़िया ने सिंचाई विभाग के अफसरों से प्रभावित परिवारों को पांच एकड़ जमीन, सरकारी नौकरी, स्कूल-अस्पताल आदि मूलभूत सुविधाएं व एक किमी तक प्रभावित क्षेत्र को भी डूब क्षेत्र में शामिल करने आदि 12 मांगें उठाई। साथ ही बांध निर्माण का स्वागत किया गया। इस दौरान लक्ष्मी दत्त पलड़िया, महेश शर्मा, हरीश पांडे, जगदीश चंद्र, पंकज, रमेश चंद्र व प्रेम प्रकाश पलड़िया आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस