हल्द्वानी, गोविंद बिष्ट : दिल्ली चुनाव में शिक्षा और स्वास्थ्य को सबसे बड़ी उपलब्धि बताते हुए आम आदमी पार्टी ने सभा, रैली के अलावा घर-घर जाकर इन दो मुद्दों पर वोट मांगें। आप अपनी इस रणनीति में कामयाब भी रही, लेकिन शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के हल्द्वानी निवासी रवि नेगी ने खूब पसीने छुड़ाए। काउंटिंग शुरू होने से 11वें राउंड तक नेगी केजरीवाल के बाद पार्टी में नंबर दो की हैसियत रखने वाले सिसौदिया से आगे चल रहे थे। हालांकि मतगणना फाइनल होने पर उन्हें तीन हजार वोटों से हार का सामना करना पड़ा। जबकि पिछली बार सिसौदिया 25 हजार से ज्यादा मतों से जीते थे।

पहाड़ और गांव से बना हुआ है नाता

दिल्ली में पहाड़ के लोगों की अच्छी तादाद होने की वजह से मंगलवार सुबह से उत्तराखंड के लोगों की नजरें भी रिजल्ट पर टिकी हुई थी। पड़पडग़ंज विधानसभा सीट से शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ रहे थे। उनके सामने भाजपा से रवि नेगी और कांग्रेस के लक्ष्मण सिंह रावत मैदान में थे। रवि नेगी मूल रूप से ग्राम सीमदाड़मी पट्टी जैंती सालम जिला अल्मोड़ा निवासी है। उनके पिता प्रताप सिंह नेगी गृह मंत्रालय से सेवारत थे अब रिटायर हो चुके हैं। देवलचौड़ बंदोबस्ती में रहने वाले रवि के बड़े भाई हरीश नेगी कंस्ट्रक्शन कारोबार से जुड़े हैं। हरीश ने बताया कि लंबे समय तक दिल्ली में रहने के बावजूद परिवार ने पहाड़ और गांव से नाता बरकरार रखा। शादी और अन्य निमंत्रण से लेकर पूजा-पाठ में भी घर के लोग जरूर शामिल होते हैं। 

जब नामांकन के बाद रद्द हुआ था पर्चा

रवि नेगी दिल्ली में भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष पद पर रह चुके हैं। वर्तमान में वह विनोद नगर मंडल अध्यक्ष पर है। बड़े भाई हरीश ने बताया कि तीन साल पहले रवि ने दिल्ली में पार्षद चुनाव लडऩे को नामांकन किया था। तीन दिन प्रचार भी किया लेकिन किन्हीं कारणों से नामांकन रद्द हो गया था।

हल्द्वानी से दिल्ली पहुंचे लोग

चुनाव के दौरान लोग यहां से भी रवि के प्रचार में गए थे। भाजपा नेता विक्रम सिंह नेगी, पार्षद राजेंद्र नेगी समेत देवलचौड़ से कई लोग दिल्ली गए। भाजपा नेता विक्रम ने बताया कि साफ छवि की बदौलत ही रवि ने आप के दिग्गज को कड़ी चुनौती दी।

यह भी पढ़ें : सीएम रावत ने जिले के लिए 151 घोषणाएं की, 120 अभी तक हैं अधूरी 

यह भी पढ़ें : नेता प्रतिपक्ष सरकार पर साधा निशाना, बोलीं केन्‍द्र की नीतियां एससी-एसटी के खिलाफ

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस