जागरण संवाददाता, रुड़की: आबकारी विभाग की टीम ने निजामपुर गांव के जंगल में कच्ची शराब की भट्ठी पकड़ी, लेकिन आरोपित पहले ही फरार हो चुका था। मौके से बड़ी मात्रा में लाहन बरामद किया है।

जंगल में शराब बनाने की सूचना पर आबकारी निरीक्षक मानवेंद्र टीम के साथ मौके पर पहुंचे। वहां टीम को करीब 200 लीटर लाहन, 20 लीटर कच्ची शराब और शराब बनाने के उपकरण मिले। आबकारी निरीक्षक ने बताया कि शराब बनाने वाला कुशल निवासी निजामपुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। उसकी तलाश की जा रही है। लॉकडाउन में दहक रही भट्ठियां

-आबकारी टीम की नहीं टूट रही नींद

-एक भट्ठी पकड़ने तक ही सीमित रही टीम

रुड़की: लॉकडाउन के दौरान देहात क्षेत्र में शराब की भट्ठी सुलग रही हैं, लेकिन आबकारी की विभाग नींद नहीं टूट रही। लगातार शहर और देहात में शराब की तस्करी हो रही है। बावजूद आबकारी विभाग कार्रवाई करने से बच रहा है।

शराब की दुकानें बंद होने से कच्ची शराब की अधिक तस्करी हो रही है। पुलिस लगातार इसके खिलाफ अभियान चला रही है। अब तक पुलिस ने काफी मात्रा में कच्ची शराब पकड़ी है, लेकिन इसके बाद भी यह धंधा जारी है। भगवानपुर, मंगलौर, झबरेड़ा और बुग्गावाला क्षेत्र के जंगल में कच्ची शराब की भट्ठियां संचालित हैं। जंगल से ही आसपास के इलाके में कच्ची शराब की सप्लाई हो रही है। लॉकडाउन के दौरान आबकारी विभाग की टीम मात्र एक अंग्रेजी शराब की पेटी और मंगलौर क्षेत्र में एक शराब की भट्ठियां ही पकड़ पाई है। यह तब है जब विभाग को आलाधिकारियों ने फटकार लगाई है। रुड़की के रामनगर से एक ठेके से अवैध शराब की तस्करी होती रही और आबकारी विभाग सोता रहा। भला हो पुलिस का जो पूरा मामला पकड़े जाने के बाद सामने आ गया। इस पूरे मामले में आबकारी विभाग पर मिलीभगत के आरोप लगे। ऐसा ही कुछ कच्ची शराब के मामले में भी सामने आ रहा है। आबकारी विभाग के डिप्टी कमिश्नर प्रभा शंकर मिश्रा का कहना है रुड़की आबकारी टीम को निर्देश जारी किए गए है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस