जागरण संवाददाता, रुड़की: डेंगू का डंक अभी भी लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। शहर के सिविल अस्पताल से लेकर निजी अस्पतालों में प्रतिदिन डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि चिकित्सकों के अनुसार जैसे-जैसे तापमान में गिरावट आती जाएगी वैसे ही डेंगू पीड़ितों की संख्या भी और कम होती जाएगी।

शहर और आसपास के क्षेत्रों में इस साल डेंगू और संदिग्ध बुखार ने अपना कहर बरपाया है। आलम यह है कि इस सीजन में अब तक शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में डेंगू एवं संदिग्ध बुखार से लगभग 46 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि काफी तादाद में लोगों को डेंगू अपनी गिरफ्त में ले चुका है। हालांकि पिछले दिनों की तुलना में धीरे-धीरे डेंगू के मामलों में कमी आ रही है लेकिन अभी भी नए मामलों के आने का सिलसिला जारी है। सिविल अस्पताल की ओपीडी में भी रोजाना डेंगू के कई संदिग्ध मरीज पहुंच रहे हैं। वहीं अस्पताल में डेंगू की जांच किट नहीं होने की वजह से मरीजों को बिना जांच के ही वापस लौटना पड़ रहा है। उधर, धीरे-धीरे मौसम में ठंडक घुलनी शुरू हो गई। ऐसे में तापमान में गिरावट आ रही है। इन दिनों शहर का अधिकतम तापमान 27.5 डिग्री और न्यूनतम तापमान 14.2 डिग्री के आसपास बना हुआ है। ऐसे में तापमान में गिरावट आने से डेंगू का खतरा भी कम होता जा रहा है। सिविल अस्पताल के डॉक्टर एके मिश्रा के अनुसार डेंगू के लिए जिम्मेदार एडीज मच्छर के पनपने के लिए तापमान धीरे-धीरे प्रतिकूल होता जा रहा है। ऐसे में अब डेंगू के मामलों में और कमी आएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप