जागरण संवाददाता, हरिद्वार: कोरोना संक्रमित एक युवक घर लौटने के बाद मोहल्ले में एक दावत में भी शामिल हुआ था। युवक टीबी से पीड़ित बताया जा रहा है। इससे प्रशासन की नींद उड़ गई है। दावत में शामिल रहे करीब 35 लोग पुलिस व खुफिया विभाग के राडार पर हैं।

स्वास्थ्य विभाग को कोरोना संक्रमित एक जमाती की मेडिकल हिस्ट्री का पता लगा है। वह पेंटर का काम करता है, जबकि दूसरा युवक फल-सब्जी की ठेली लगाता है। पेशे से पेंटर युवक के टीबी से पीड़ित होने की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को मिली है। इस कारण उसे खांसी की शिकायत रहती है। यही वजह है कि उसके संपर्क में आने वाले ज्यादा लोगों को संक्रमित होने का खतरा बना हुआ है। पुलिस ने बुधवार को मोबाइल पर उससे पूछताछ की। खांसते-खांसते वह सिर्फ इतना बता पाया कि घर आने के बाद वह एक दावत में शामिल हुआ था, जिसमें करीब 35 लोग जुटे थे। मेडिकल स्टोर चलाने वाले एक पड़ोसी युवक के साथ भी उसका बैठना-उठना हुआ था। पुलिस अब मेडिकल स्टोर संचालक व दावत में शामिल लोगों के बारे में जानकारी जुटाने में लगी है। चूंकि पांवधोई के लोगों की ज्वालापुर के दूसरे मोहल्लों में भी रिश्तेदारी है, ऐसे में पुलिस यह भी पता लगा रही कि किसी दूसरे इलाके का कोई व्यक्ति कहीं इन जमातियों से तो नहीं मिला था। वहीं लॉकडाउन के बीच 35 लोगों की दावत कैसे हुई, इसको लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। सवाल यह भी है कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों और एसपीओ ने समय रहते इसकी जानकारी पुलिस को क्यों नहीं दी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस