संवाद सूत्र, लक्सर : शनिवार की सुबह पांच बजे से ही राजस्व और पुलिस प्रशासन के अधिकारी कर्मचारियों ने तटीय इलाकों में गांवों में पहुंचकर ग्रामीणों को अलर्ट करना शुरू कर दिया। गंगा से सटे गंगदासपुर, कलसिया, पंडितपुरी, बालावाली, डुमनपुरी, शेरपुर बेला, महाराजपुर, माडाबेला, महाराजपुर कलां, सौंपरी, जसपुरी रणजीतपुर, रामपुर रायघटी आदि गांवों में ग्रामीणों को अलर्ट किया तथा उनसे गंगा के जलस्तर में उतार चढ़ाव को देखते हुए गंगा तट से दूर रहने की अपील की। एसडीएम शैलेंद्र सिंह नेगी ने बताया कि फिलहाल क्षेत्र में हालात सामान्य हैं। लेकिन, गंगा के जलस्तर को देखते हुए ग्रामीण इलाकों में मुनादी कराकर व दूसरे साधनों से अलर्ट किया गया गया है। बाढ़ चौकियों पर तैनात कर्मचारियों को भी सर्तकता बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

----------------------

चालीस से अधिक ग्रामीणों को सुरक्षित निकाला

लक्सर : एसडीआरएफ और जल पुलिस के सहयोग से रेस्क्यू आपरेशन चलाते हुए टीमों ने जसपुर रणजीतपुर और सौंपरी गांवों में चालीस से अधिक ग्रामीणों को सुरक्षित गंगा की धारा से रेस्क्यू किया। गंगा से सटे रामपुर रायघटी, जसपुर रणजीतपुर, सौंपरी, शिवपुरी आदि कुछ गांवो में किसानों के खेत गंगा के दूसरी ओर हैं। शनिवार को भी कई ग्रामीण गंगा के दूसरी ओर गए हुए थे। इस बीच गंगा का जलस्तर बढ़ने से उनके लौटने का रास्ता बंद हो गया। इससे कई ग्रामीण गंगा के बीच टापू और गंगा के दूसरी ओर जंगल में फंस गए। इसकी सूचना कंट्रोल रूम को दी गई। ऋषिकेश और हरिद्वार से एसडीआरएफ और जल पुलिस की टीमें मौके पर पहुंच गई। स्थानीय पुलिस के अलावा गोताखोर भी मौके पर आ गए। इसके बाद पहले जसपुर रणजीतपुर और इसके बाद सौंपरी के निकट रेस्क्यू आपरेशन शुरू हुआ। इसमें गंगा के बीच फंसे चालीस से अधिक ग्रामीणों को सकुशल रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया। मोटरबोट की मदद से गंगा में फंसे जसपुर रणजीतपुर, रामपुर रायघटी, सौंपरी, डुमनपुरी, आदि गांवों के व्यक्तियों को वापस लाया गया।

Edited By: Jagran