संवाद सहयोगी, रुड़की : शिक्षा नगरी के विकास में आइआइटी रुड़की नगर निगम को हर संभव सहयोग करेगा। महापौर ने आइआइटी के डायरेक्टर से शहर के विकास कार्यों में तकनीकी सहयोग मांगा है। साथ ही निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच प्राथमिकता के आधार पर कराने की मांग की है।

आइआइटी नगर निगम क्षेत्र में है। आइआइटी के विशेषज्ञों का सहयोग शहर के विकास कार्यों में भी मिल सके। इस बात को देखते हुए सोमवार को महापौर गौरव गोयल आइआइटी रुड़की के डायरेक्टर प्रो. अजीत कुमार चतुर्वेदी से मिले। महापौर ने उनके साथ शहर के विकास पर विस्तार से चर्चा की। महापौर ने कहा कि शहर में जलभराव एवं पार्किंग सहित विभिन्न समस्याएं हैं। यदि आइआइटी से इन समस्याओं के समाधान पर तकनीकी सहयोग मिलेगा, तो शहर अलग ही रूप में नजर आएगा। शहर की यातायात व्यवस्था को भी बेहतर बनाने पर चर्चा हुई। इसी के साथ महापौर गोयल ने उनसे शहर में होने वाले निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर भी वार्ता की। उन्होंने कहा कि यदि निर्माण कार्य मानकों के अनुरूप हो जाए तो निर्माण लंबे समय तक ठीक रह सकते हैं। इससे निगम को काफी आर्थिक लाभ होगा। यह पैसा अन्य विकास कार्य में पर लग सकेगा। इसलिए आइआइटी अपनी लैब में यदि निर्माण कार्यों के मानकों की जांच बारीकी से कराएंगे तो अच्छे निर्माण को बल मिलेगा। इससे ऐसे ठेकेदार या फिर निर्माण एजेंसी को चिह्नित किया जा सकेगा, जो मानकों की अनदेखी कर कार्य करते हैं। साथ ही ऐसे ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट भी किया जा सकेगा, जो निर्माण कार्य में गड़बड़ी करते हैं। महापौर गौरव गोयल ने बताया कि आइआइटी डायरेक्टर ने आश्वासन दिया है कि निगम की ओर से निर्माण कार्य संबंधी जो सैंपल आदि आएंगे। लैब में उनकी जांच प्राथमिकता के आधार पर कराई जाएगी। महापौर ने बताया कि निगम की ओर से होने वाले किसी भी निर्माण कार्य को लेकर यदि कहीं पर भी कोई गड़बड़ी होती है, तो इसकी शिकायत सीधे उन्हें करें। वह तत्काल इस पर कार्रवाई करेंगे। उन्होंने कहा कि उनके व्हाट्सएप नंबर 8630560869 पर भी शिकायत कर सकते हैं।

Edited By: Jagran