जागरण संवाददाता, रुड़की: शिक्षानगरी में हरितालिका तीज का पर्व श्रद्धापूर्वक और हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर जहां सुहागिनों ने निर्जला व्रत रखकर अपने पति की दीर्घायु के लिए कामना की। वहीं, कुंवारी कन्याओं ने सुयोग्य वर के लिए व्रत किया।

शहर के विभिन्न मंदिरों में बुधवार को हरितालिका तीज के अवसर पर विशेष पूजा-अर्चना की गई। नहर किनारे स्थित श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर में हरितालिका तीज पर भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश का पार्थिव पूजन किया गया। व्रतधारी सुहागिनों ने भगवान शिव को दूध, दही, शहद, बेलपत्र आदि पूजन सामग्री अर्पित की। इस मौके पर पंडित रामगोपाल पराशर, राजकुमार, सुनिता, मधु, मेघ, पूनम गोयल, राजबाला, सुचि, सविता, राजरानी आदि उपस्थित रहे। इसी प्रकार से अंबर तालाब स्थित राधा कृष्ण सत्संग सभा मंदिर में भी हरितालिका तीज पर भगवान गणेश, माता पार्वती और भगवान शिव का पूजन किया गया। इस मौके पर पं. राकेश चमोली शास्त्री ने महिलाओं को हरितालिका तीज की कथा सुनाई। वहीं व्रतधारी सुहागिनों ने भगवान शिव का अभिषेक किया और माता पार्वती को श्रृंगार का सामान अर्पित किया। साथ ही अपने पति की दीर्घायु के लिए कामना की। इस अवसर पर मंदिर में कमलेश उपाध्याय, पूनम गर्ग, मंजू सैनी, अर्चना वालिया, पूनम अग्रवाल, अर्चना ¨सघल, मधु, उषा शर्मा, नीलम, पंडित दिवाकर चमोली आदि उपस्थित रहे।

हरितालिका तीज के गीतों पर जमकर झूमी महिलाएं

गोरखा समाज कल्याण समिति की ओर से पंचशील मंदिर में हरितालिका तीज पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पं. पीतांबर की ओर से पूजा-अर्चना कराई गई। वहीं महिलाएं हरितालिका तीज के गीतों पर जमकर झूमी। इस मौके पर गोरखा समाज के अध्यक्ष जसवंत ¨सह थापा, दुर्गा थापा, बुद्धि ¨सह राणा, विमल थापा, ज्योति गुरुंग, हरि बहादुर गुरुंग, भानवीर गुरुंग, सुरजा तमाग, राम ¨सह थापा, बीना पंथी, विमलेश थापा, रजनी थापा, संगीता, मीना, माया, रितू आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran