जागरण संवाददाता, हरिद्वार। Haridwar Kumbh Mela 2021 श्री पंचदशनाम जूना अखाड़े और श्री पंच शंभू अटल अखाड़े ने अपने अखाड़ों में कुंभ समाप्ति की घोषणा कर दी है। इसके तहत दोनों अखाड़ों ने बाहर से आए संत-महात्माओं और श्रद्धालुओं से अपने मूल स्थान पर जाने का आग्रह किया है। वहीं, अब जूना अखाड़े में कुंभ के निमित्त कोई भी कार्य नहीं किया जाएगा। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बातचीत के बाद जूना अखाड़े ने अपने अखाड़े में कुंभ समाप्ति की घोषणा की। इसके बाद श्री पंच शंभू अखाड़े ने भी अपने अखाड़े में कुंभ समाप्ति की घोषणा की। जूना अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि ने कहा कि अपने अखाड़े में कुंभ का विसर्जन कर दिया है और अब अखाड़े में कुंभ के निमित्त कोई कार्य नहीं किया जाएगा।

इसके साथ ही अग्नि और आह्वान और किन्नर अखाड़े का कुंभ भी समाप्त हो गया है, क्योंकि यह सभी जूना अखाड़े के साथ ही कुंभ के आयोजन में शामिल होते हैं। उन्होंने बताया कि यह फैसला कोरोना वायरस संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए लिया गया है। 

वहीं, श्री पंच शंभू अटल अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर श्रीश्री 1008 स्वामी विश्वात्मानंद सरस्वती जी महाराज ने बताया कि कुंभ के निमित्त आगे होने वाले अनुष्ठान अखाड़े के चार-छह संत-महात्मा प्रतीकात्मक रूप से पूरा करेंगे। आपको बता दें कि इससे पहले निरंजनी और आनंद अखाड़ा भी अपने यहां कुंभ समाप्ति की घोषणा कर चुका है।

यह भी पढ़ें- केंद्रीय गृहमंत्री शाह की बैरागी अणियों के अध्यक्षों से फोन पर बात, की ये अपील

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप