संवाद सूत्र कलियर: रबि उल अव्वल का चांद नजर आते ही दरगाह में मेहंदी डोरी की रस्म अदा की गई। इसके साथ ही पूरे दरगाह क्षेत्र में उल्लास नजर आया। सैकड़ों अकीदतमंदों के साथ सज्जादानशीं ने मेहंदी डोरी की रस्म पेश की। इसके साथ ही के दरगाह 750वें सालाना उर्स का आगाज हुआ।

दरगाह के सज्जादानशीं शाह मंसूर ऐजाज साबरी अकीदतमंदों के साथ दरगाह साबिर साहब पर पहुंचे। यहां पर मेहंदी डोरी की रस्म अदा की गई। सज्जादानशीं अपने काफिले के साथ कलियर स्थित कदीमी कोठी पर नमाज के बाद आए। बड़े-बड़े थालों में मेहंदी डोरी को लेकर दरगाह की ओर रवाना हुए। कलियर से दरगाह तक के रास्ते को खुशबूदार पदार्थ व पाकीजगी वाली चीजों से सजाया संवारा गया। मेंहदी डोरी को दरगाह के बुर्जो पर लगाया और बांधा गया। इसके बाद इस प्रसाद को जायरीनों में वितरित किया गया। हर कोई सज्जादानशीं के हाथों से मेहंदी डोरी का प्रसाद लेने के लिए लालायित नजर आया। इसके बाद दरगाह की मेहंदी डोरी की रस्म अदा की गई। अब मुख्य रस्म 20 नवंबर से लेकर 23 नवंबर तक अदा की जाएगी। जिसमें पाकिस्तानी जायरीन भी शामिल होंगे। 24 नवंबर को ऑल इंडिया मुशायरे का आयोजन किया जाएगा।

Posted By: Jagran