संवाद सहयोगी, रुड़की: पकड़ी गई तीन नकली दवा फैक्ट्री के तार किस-किस से जुड़े हैं। इसका पर्दाफाश पकड़े गए आरोपितों के मोबाइल करेंगे। उनके मोबाइल पर तमाम ऐसे नंबर और मैसेज हैं। जिन पर दवाओं के ऑर्डर और सप्लाई आदि से जुड़ी बातें लिखी हुई बताई जा रही है। दोनों आरोपितों के मोबाइल को फोरेंसिक जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा रहा है।

सैनिक कालोनी में पकड़ी गई नकली दवा बनाने वाली फैक्ट्री से रविकांत और शिवपुरम गली नंबर पांच में पकड़ी फैक्ट्री से राजेंद्र उर्फ अरुण को पकड़ा था। यह दोनों ही नकली दवा फैक्ट्री के संचालक है। टीम ने दोनों के मोबाइल जब्त किए हैं। इन मोबाइल में कई नंबर है। जिन पर मैसेज का भी आदान प्रदान हुआ है। नंबर और मैसेज के आधार पर अब नकली दवा के गिरोह के अन्य सदस्यों तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है। गंगनहर कोतवाली पुलिस इन दोनों मोबाइल को फोरेंसिक जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजने की तैयारी कर रही है। मोबाइल से इस गिरोह के तमाम सदस्यों के नाम सामने आएंगे। बरामद दवाओं के सैंपल की होगी जांच

रुड़की: ड्रग विभाग की ओर से पकड़ी गई नकली दवा फैक्ट्री से बरामद हुई दवाओं के सैंपल टीम ने सील कर लिये हैं। इन सभी सैंपल की जांच कराई जाएंगी।। हालांकि, प्रारंभिक जांच में इन दवा के नकली होने की बात सामने आ चुकी है। दवा को सेलखड़ी आदि से बनाया गया है। जिसमें दवा के किसी भी साल्ट के न होने की बात कही जा रही है। लेकिन टीम कानूनी प्रक्रिया अपनाते हुए बरामद हुई सभी दवा के सैंपल की जांच करा रही है।

Posted By: Jagran