जागरण संवाददाता, रुड़की: माजरी गांव में डकैती डालने वाले बदमाश अभी तक पुलिस के हाथ भी नहीं आये हैं। वहीं दूसरी ओर मंगलवार रात को पलूनी गांव में बदमाश एक और वारदात की फिराक में थे, लेकिन ने संदिग्धों को देखकर शोर मचाना शुरू कर दिया। जिसके बाद बदमाश जंगल में भाग गये। कई थानों की पुलिस ने जंगल में घंटों तक कांबिंग की, लेकिन बदमाशों का सुराग नहीं लग पाया। घटना को लेकर क्षेत्र में दहशत का माहौल है।

कलियर थाना क्षेत्र के पलूनी गांव में मंगलवार रात करीब 11 बजे गांव के पास करीब आठ से दस संदिग्ध बदमाश देखे गए। इनके हाथों में लाठी डंडे भी थे। यह लोग वारदात करते इससे पहले ही ग्रामीणों ने गांव में शोर मचा दिया। ग्रामीण छतों पर चढ़ गए जबकि कुछ लोग हाथों में लाठी डंडे लेकर बाहर आ गए। शोर होने पर बदमाश जंगल में भाग गए। इसी बीच पुलिस को भी गांव में बदमाश आने की सूचना दी गई। भगवानपुर, कलियर तथा बुग्गावाला थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से गांव में कांबिंग की। इसके बावजूद बदमाशों का सुराग नहीं लग पाया। घटना के बाद रात भर ग्रामीण दहशत में रहे। बदमाशों की चहलकदमी को देखते हुए गांव में पूरी रात लोगों ने जाग कर पहरा दिया। एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने बताया कि पुलिस ने घंटों तक जंगल में कांबिंग की लेकिन कुछ पता नहीं चला। टीम में एएसपी को भी किया शामिल

कलियर: माजरी गांव में हुई डकैती की घटना के मामले में पुलिस के हाथ अभी खाली हैं। पुलिस की टीमें उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में दबिश दे रही हैं। एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने बताया कि माजरी गांव में हुई डकैती की घटना में बनाई गई पुलिस टीम में लक्सर सर्किल में तैनात एएसपी रचिता जुयाल को शामिल किया गया है। बताया कि इस मामले में पुलिस की दबिश जारी है। वहीं, भगवानपुर विधायक ममता राकेश ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात की।

Posted By: Jagran