जागरण संवाददाता, हरिद्वार। Coronavirus Test Fraud  कुंभ में कोरोना टेस्टिंग फर्जीवाड़े की जांच कर रही एसआइटी ने स्थानीय लैब संचालकों से भी पूछताछ शुरू कर दी है। पहले दिन एसआइटी ने हरिद्वार की नोवस लैब के मैनेजर से घंटों पूछताछ की। रुड़की और देहरादून के लैब संचालकों से भी पूछताछ की जाएगी। नोवस लैब ने कुंभ के दौरान मेला क्षेत्र के अलावा जिला स्तर पर भी कोरोना जांच की थी।

घोटाले की शिकायत आने के बाद अब तक एसआइटी टीम ने मैक्स कारपोरेट सर्विसेज की ओर से नलवा लैब हिसार व डाक्टर लाल चंदानी लैब दिल्ली के टेंडर की जांच की थी। जबकि इसके अलावा दस अन्य लैब ने कुंभ में टेस्टिंग की थी। जांच में घोटाला पकड़ने के बाद पुलिस ने आरोपित आशीष वशिष्ठ को गिरफ्तार किया था। घोटाले सामने आने के बाद अब दूसरे नंबर में अत्यधिक जांच करने वाली नोवस लैब से पूछताछ शुरू हो चुकी है। इस लैब ने हरिद्वार में 10 जगहों पर करीब 56 हजार जांच की है। बुधवार दोपहर एसआइटी ने लैब की ओर से कुंभ मेले में कामकाज देखने वाले मैनेजर को नोटिस देकर बुलाया और घंटों पूछताछ की। इसके अलावा रुड़की की एक और लैब से एसआइटी पूछताछ कर सकती है। एसआइटी के अधिकारियों का कहना है कि कुंभ के दौरान कोरोना टेस्टिंग करने वाली सभी लैब की जांच की जा रही है। फिलहाल पूछताछ में एसआइटी यह जानने का प्रयास कर रही है कि मैक्स कारपोरेट सर्विसेज का किसी स्थानीय लैब से भी तो संबंध नहीं रहा है। हालांकि अभी तक की पड़ताल में यह सामने आया है कि अधिकांश फर्जी टेस्ट डेल्फिया लैब ने ही किए थे। विवेचनाधिकारी राजेश शाह ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि पूछताछ की जा रही है।

जरूरत पड़ी तो लेंगे सीडीओ की रिपोर्ट

सीडीओ की जांच रिपोर्ट से भी एसआइटी को खासी मदद मिलेगी। सीडीओ की जांच में फर्म व लैब संचालकों के बयान भी दर्ज किए हैं। ऐसे में एसआइटी दोनों के बयानों का मिलान भी करेगी। विवेचनाधिकारी राजेश साह ने बताया कि जरूरत पड़ी तो प्रशासन की जांच रिपोर्ट ली जाएगी।

यह भी पढ़ें- Haridwar Crime News: हरिद्वार के होटल में दुष्कर्म कर बनाई अश्लील वीडियो, अब कर रहा है ब्‍लैकमेल; मुकदमा दर्ज

Edited By: Raksha Panthri