संवाद सहयोगी, हरिद्वार: पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण महाराज का जन्मोत्सव जड़ी-बूटी दिवस के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर पतंजलि योगपीठ के अध्यक्ष स्वामी रामदेव महाराज तथा स्वामी मुक्तानंद महाराज ने माल्यार्पण कर आचार्य को जन्मदिवस की शुभकामनाएं दीं। कार्यक्रम में आचार्यश्री की रचित पुस्तकों का विमोचन किया गया। इस दौरान ब्लड बैंक टीमों के सहयोग से आयोजित स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का शुभारंभ खुद आचार्य ने रक्तदान करके किया।

इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि आयुर्वेद हमारी लाखों वर्ष पुरानी संस्कृति और चिकित्सा पद्धति है। जिसको संरक्षित रखना सभी की जिम्मेदारी है। इस अवसर पर स्वामी रामदेव महाराज ने कहा कि आचार्य का संपूर्ण जीवन समाज सेवा के लिए समर्पित है। वह सेवा का कोई अवसर व्यर्थ नहीं जाने देना चाहते। आज भी जन्मदिवस पर रक्तदान कर तथा विभिन्न ज्ञानवर्धक पुस्तकों के रूप में उन्होंने समाज को एक रिटर्न गिफ्ट दिया है।

इस मौके पर स्वैच्छिक रक्तदान शिविर के संयोजक डॉ. अनुराग वाष्र्णेय ने बताया कि रक्तदान शिविर में 6000 से भी अधिक लोगों ने रक्तदान किया। उनके अनुसार कुल 618 यूनिट ब्लड एकत्रित किया गया। इस अवसर पर डॉ. प्रदीप नैन, डॉ. विनम्र शर्मा, पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति प्रोफेसर महावीर प्रसाद, मनोहर लाल आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran