जागरण संवाददाता, देहरादून: 25 जून 1975 को लगाया गया आपातकाल भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का काला अध्याय है। जब न सिर्फ विपक्षी नेताओं को जेल में डाल दिया गया था, बल्कि प्रेस पर भी प्रतिबंध लगाए गए थे।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने यह बातें एक कार्यक्रम के दौरान कहीं। आपातकाल की बरसी पर भाजपा की ओर से काला दिवस के रूप में विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किए गए।

कारगी चौक के निकट स्थित एक वेडिंग प्वाइंट में आयोजित कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने प्रतिभाग किया। कार्यकर्त्‍ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने देश में एक सत्ताभोगी फौज पैदा की।

जब भी कोई कांग्रेस के विरुद्ध खड़ा हुआ तो उसकी आवाज दबाने का काम किया गया। 25 जून 1975 को देश पर थोपा गया आपातकाल इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

कार्यक्रम में आपातकाल के समय से भाजपा को मजबूत बनाने का काम कर रहे कार्यकर्त्‍ता महेश्वर बहुगुणा व गिरीश इष्टवाल को शाल ओढ़ाकर सम्मानित भी किया गया।

कार्यक्रम में भाजपा महानगर उपाध्यक्ष आनंद सागर, महानगर मीडिया प्रभारी राजीव उनियाल, सोशल मीडिया प्रभारी भुवनेश कुकरेती आदि उपस्थित थे।

उधर, अंबेडकर नगर मंडल के अध्यक्ष विशाल गुप्ता के नेतृत्व में कार्यकर्त्‍ताओं ने दो घंटे का मौन धारण किया। साथ ही घंटाघर स्थित बाबा भीमराव अंबेडकर पार्क में सांकेतिक प्रदर्शन किया।

बतौर मुख्य अतिथि महापौर सुनील उनियाल गामा, प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल गोयल ने प्रतिभाग किया। इसके अलावा वीर चंद्र सिंह गढ़वाली मंडल रायपुर विधानसभा के मंडल कार्यालय में आपातकाल के विरोध में कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें पार्षद अनूप नौटियाल, मंडल अध्यक्ष सुभाष चंद्र यादव ने अपने विचार व्यक्त किए।

राजनीतिक गिरफ्तारियों के कारण जेलों में नहीं बची थी जगह

गढ़ी कैंट स्थित एक सामुदायिक भवन में आयोजित कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी भी उपस्थित रहे। इस दौरान आपातकाल की दुखद स्मृतियों को याद किया गया। साथ ही आपातकाल के दौरान जेल गए तारा चंद्र गुप्ता व भूमिगत जीवन जीने को मजबूर हुए रोशन लाल अग्रवाल को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि 25 जून की रात से ही देश में विपक्ष के नेताओं की गिरफ्तारियों का दौर शुरू हो गया था। जयप्रकाश नारायण, लालकृष्ण आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी, जार्ज फर्नाडीज आदि बड़े नेताओं को जेल में डाल दिया गया था।

जेलों में जगह नहीं बची थी। प्रदेश उपाध्यक्ष देवेंद्र भसीन ने भी आपातकाल की निंदा की। इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष पूनम नौटियाल, विष्णु गुप्ता, ज्योति कोटिया, सुरेंद्र राणा आदि उपस्थित रहे।

Edited By: Sunil Negi