जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्‍तराखंड के समस्त औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आइटीआइ) में दो साल बाद इस बार आफलाइन माध्यम से प्रयोगात्मक परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। कोरोना संक्रमण के कारण 2020 व 2021 के बीच आइटीआइ छात्रों का औद्योगिक प्रशिक्षण भी आनलाइन ही आयोजित किया गया। जबकि आइटीआइ के 13 ट्रेडों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं उद्योगों में जाकर या आइटीआइ की कर्मशाला में किया जाना अनिवार्य है।

2020 मार्च में लग गया था पूरे देश में लाकडाउन

प्रदेशभर में 95 आइटीआइ में 13 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं के दाखिले हैं। जिसमें मशीनिस्ट, इलेक्ट्रानिक, इलेक्ट्रिकल, मोटर मैकेनिक, ब्यूटीशियन, कम्प्यूटर, आर्ट एंड क्राफ्ट, ट्राफ्समैन, प्लंबर आदि तकनीकी ट्रेडों की पढ़ाई होती है और प्रयोगात्मक कक्षाएं भी सप्ताह में दो दिन अनिवार्य हैं। वर्ष 2020 मार्च महीने में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने के कारण पूरे देश में लाकडाउन लागू कर दिया गया। जिससे सभी शिक्षण संस्थान बंद कर दिए गए। कुछ आइटीआइ ने आनलाइन पढ़ाई प्रारंभ भी की, लेकिन प्रयोगात्मक प्रशिक्षण पूरी तरह ठप रहा। लेकिन अब कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर धीरे-धीरे धीमी पड़ती जा रही है, जिसके बाद उत्तराखंड सरकार ने सभी शिक्षण संस्थानों में आफलाइन पढ़ाई और प्रयोगात्मक कक्षाएं शुरू करने की अनुमति दे दी है। ऐसे में अब लिखित परीक्षा और प्रयोगात्मक परीक्षाएं आफलाइन करने की तैयारियां की जा रही हैं।

आठ मार्च से आफलाइन होंगी प्रयोगात्मक परीक्षाएं

औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान हरिद्धार के प्रधानाचार्य अनिल गुसाईं ने पुष्टि करते हुए बताया कि सभी आइटीआइ में आठ मार्च से प्रयोगात्मक परीक्षाएं आफलाइन आयोजित की जाएंगी। यह परीक्षाएं दस मार्च तक चलेंगी। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो साल से प्रयोगात्मक परीक्षाएं भी आनलाइन माध्यम से ही संपन्न करवाई गईं। अब प्रयोगात्मक परीक्षाएं आफलाइन होंगी। हालांकि पिछले वर्ष मुख्य परीक्षा से वंचित छात्र-छात्राओं के लिए मार्च प्रथम सप्ताह में शुरू हो रही लिखित परीक्षा फिलहाल आनलाइन माध्यम से ही होंगी। प्रयोगात्मक परीक्षा और पूर्व छात्रों की छूटी हुई मुख्य परीक्षा का परीक्षा कार्यक्रम निजी आइटीआइ पर भी लागू होगा।

Edited By: Nirmala Bohra