विकासनगर(देहरादून), जेएनएन। बरेली से सब्जी भरे ट्रक में करोड़ों रुपये कीमत की स्मैक लेकर आ रहे दो आरोपितों को कोतवाली पुलिस ने हरबर्टपुर में गिरफ्तार किया है। आरोपितों में से एक पहले भी जेल जा चुका है और मादक पदार्थ तस्करी की चेन का मुख्य हिस्सा है। दोनों विकासनगर और सहसपुर क्षेत्र में मादक पदार्थ की सप्लाई करनी थी। पुलिस टीम की इस सफलता पर डीआइजी और एसएसपी ने इनाम देने की घोषणा की है एसपी देहात पदमेंद्र डोभाल ने अब बाहरी राज्यों से आवश्यक वस्तुएं लेकर आ रहे सभी वाहनों की सघन चेकिंग कराने के निर्देश दिए हैं।

पुलिस ने आवश्यक सेवा में लगे ट्रक से सब्जी की आड़ में भारी मात्रा में स्मैक पकड़ी है। दरअसल, कोतवाली पुलिस को 17 अप्रैल को सूचना मिली थी कि कुछ लोग ट्रक में आवश्यक सेवा की आड़ में अवैध कारोबार कर रहे हैं। इस पर गठित पुलिस टीम में शामिल प्रभारी कोतवाल गिरीश नेगी, चौकी प्रभारी बाजार दीपक मैठाणी, चौकी प्रभारी कुल्हाल प्रमोद कुमार, चौकी प्रभारी हरबर्टपुर रवि प्रसाद, सिपाही श्रीकांत मलिक और सिपाही संदीप कुमार ने ट्रक की तलाश शुरू की, लेकिन ट्रक का पता नहीं लग पाया। 

शनिवार को पुलिस टीम ने मुखबिर की सूचना पर ट्रक को तलाशा तो वह हरबर्टपुर में मिला। ट्रक में पीछे हरी मिर्च के बोरे भरे थे, ट्रक में आगे आवश्यक सेवा सब्जी का स्टीकर लगा था। पुलिस टीम को देखकर अन्दर बैठे दो व्यक्ति मौके से भागने का प्रयास करने लगे तो दोनों को घेरकर मौके पर ही पकड़ लिया गया। सख्ती से पूछताछ करने पर पकड़े गए अशफाक अहमद निवासी ताल्हापुर, थाना बिहारीगढ़ सहारनपुर उप्र और शेरदीन निवासी माजरी सहसपुर ने बरेली से भारी मात्र में स्मैक लाने की बात स्वीकार की। 

दोनों के पास से आधा किलो स्मैक बरामद हुई। पुलिस क्षेत्रधिकारी भूपेंद्र धोनी ने मौके पर पहुंचकर खुद की उपस्थिति में एनडीपीएस एक्ट में कार्रवाई कराई। कोतवाली कमें पत्रकारों से वार्ता में एसपी देहात पदमेंद्र डोभाल ने पत्रकारों को बताया कि आरोपित शातिर किस्म के हैं, इसमें से शेरदीन बरेली से स्मैक तस्करी में मुख्य रूप से लिप्त रहा है। आरोपित पहले भी जेल जा चुका है। दोनों को विकासनगर और सहसपुर क्षेत्र में स्मैक सप्लाई करनी थी।

मादक पदार्थों की तस्करी का बड़ा नेटवर्क तोड़ने में सफल रही पुलिस 

कोतवाली पुलिस को मादक पदार्थों की तस्करी का बड़ा नेटवर्क तोड़ने में सफलता मिली है। बरेली से सीधे लिंक रखने वाले शातिर शेरदीन की गिरफ्तारी के बाद पछवादून क्षेत्र में मादक पदार्थों की तस्करी व सप्लाई पर काफी हद तक अंकुश लगेगी। आरोपितों से पूछताछ में तमाम चौकाने वाले खुलासे हुए हैं।

पुलिस पूछताछ में मुख्य आरोपित शेरदीन निवासी माजरी सहसपुर ने बताया कि वह पूर्व में भी स्मैक तस्करी में 3 बार पकड़ा जा चुका है। चूंकि लॉकडाउन के समय क्षेत्र में बरेली से स्मैक नहीं आ पा रही थी, इसकी भारी कमी को देखते हुए उसने अब्बास से संपर्क किया और कहा गया कि किस तरह बरेली से स्मैक लायी जा सकती है। अब्बास ने उसका संपर्क ट्रक मालिक इमरान से कराया। इमरान ने कहा कि उसका आढ़त का काम है, उसके ट्रक पर आवश्यक सेवा का स्टीकर लगाकर सब्जी लेने के बहाने बरेली ले जाओ और स्मैक खरीदकर ले आओ।

लायी गयी स्मैक को अभी रोककर स्कूल व कॉलेजों के खुलने पर छात्रों व ओद्यौगिक क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों को ऊंचे दाम पर बेचकर तीनों भारी मुनाफा कमा लेंगे।। इमरान ने यह भी कहा था कि उससे फोन पर बात मत करना। आरोपित शेरदीन ने पुलिस पूछताछ में बताया कि अब्बास को हम इसलिए भी साथ में नहीं ले गए थे कि ट्रक मालिक इमरान ने कहा था कि अगर तीन आदमी ट्रक में जाएंगे तो पुलिस जगह-जगह पूछताछ करेगी।

यह भी पढ़ें: मांस बिक्री की आड़ में बेच रहा था शराब, पुलिस ने किया गिरफ्तार

योजना के तहत हमने बरेली जाकर आवश्यक सेवा (सब्जी) की आड़ में फतेहगंज पश्चिमी बरेली के रहने वाले मामू नाम के व्यक्ति से 500 ग्राम स्मैक खरीदी। पुलिस प्रशासन को चकमा देने के लिए ट्रक में मिर्च भरकर सब्जी की आड़ में स्मैक लेकर आए। हमारे बीच यह तय हुआ था कि ट्रक ड्राईवर उसे धर्मावाला छोड़ देगा और वह स्वयं ट्रक लेकर सहारनपुर चला जाएगा, जिसके बाद हमने ट्रक हरबर्टपुर के मोदी ग्राउंड में खड़ा कर दिया। किन्तु शनिवार की सुबह को जब हमें हरबर्टपुर से जाना था तो हमारी गाड़ी खराब हो गई थी, इंजन स्टार्ट नहीं हो पा रहा था। आरोपितों के विरुद्ध साक्ष्य संकलन कर व बरेली के तस्कर को भी विवेचना में शामिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: छिद्दरवाला और खैरीकलां क्षेत्र में पुलिस ने नष्ट की कच्ची शराब की लाहन

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस