देहरादून, जेएनएन। राज्य सरकार ने अनलॉक-4 के दूसरे चरण के तहत अंतरराज्यीय परिवहन शुरू करने की तैयारी कर ली है। लंबे समय से रोडवेज व अन्य ट्रांसपोर्टर इसकी मांग कर रहे थे। इस मंजूरी के बाद रोडवेज बसें उत्तर प्रदेश और दिल्ली समेत हरियाणा, हिमाचल, राजस्थान भी चल सकेंगी और वहां की बसें भी यहां आ सकेंगी। हालांकि, अंतरराज्यीय परिवहन अभी सीमित संख्या के साथ शुरू किया जा सकता है। इसके लिए बसों की संख्या तय की जा रही है। माना जा रहा कि इसी हफ्ते इसके आदेश जारी हो सकते हैं। 

केंद्र सरकार ने अनलॉक-4 के तहत सभी राज्यों को सीमाओं पर लगाई गई पाबंदी को हटाने के आदेश दिए थे। पड़ोसी राज्यों की ओर से अपनी सीमाएं निर्बाध खोल दी गईं, लेकिन उत्तराखंड सरकार ने यहां आवागमन के लिए पंजीकरण कराने की अनिवार्यता व सीमा पर कोविड-टेस्ट कराने की शर्त रखी थी। हालांकि, विवाद के बाद कोविड-टेस्ट की शर्त सरकार ने हटा दी, मगर पंजीकरण की शर्त अभी बरकरार है। ऐसे में सरकार ने अब मार्च से बंद पड़े अंतरराज्यीय परिवहन को दोबारा शुरू करने की तैयारी भी कर ली है। दरअसल, उत्तर प्रदेश लंबे समय से यह मांग उत्तराखंड सरकार से कर रहा है। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश ने पहले चरण में अपनी सौ बसें चलाने का प्रस्ताव रूटवार भी भेजा हुआ है। इसके बाद राजस्थान, हरियाणा व हिमाचल प्रदेश रोडवेज की ओर से भी बसें संचालित करने की मंजूरी मांगी गई है। 

मौजूदा समय में उत्तराखंड रोडवेज की बसें या स्टेज कैरिज वाली निजी बसें केवल अपने प्रदेश के भीतर ही संचालित हो रहीं। मसलन, देहरादून से रुड़की जाने वाली बस वाया हरिद्वार होकर जा रही, क्योंकि मोहंड के रास्ते में कुछ भाग उत्तर प्रदेश का पड़ता है, इसलिए यहां से बसें नहीं जा रहीं। इसी तरह देहरादून-हरिद्वार से हल्द्वानी-नैनीताल भी बसों का संचालन बंद है। यहां भी बीच का मार्ग उत्तर प्रदेश का पड़ता है। बसों का संचालन न होने से रोडवेज का घाटा बढ़ता जा रहा। परिवहन सचिव शैलेश बगोली के अनुसार अंतरराज्यीय परिवहन खोलने की तैयारी चल रही है। इसके लिए शर्तें तैयार की जा रही हैं। एक-दो दिन में सरकार इस मामले में निर्णय ले सकती है। 

किराया होगा कम, बढ़ेंगी सवारियां

अंतरराज्यीय परिवहन खोलने के साथ ही सरकार व्यावसायिक वाहनों का किराये को कम करने व सवारियों की संख्या बढ़ाने पर भी विचार कर रही। अभी सूबे में वाहनों में पचास फीसद सवारियों को दोगुना किराया लेकर चलने की अनुमति है। सरकार किराए में कटौती कर सवारियों की संख्या बढ़ाकर 75 फीसद कर सकती है।

परिवहन निगम भी तैयार

सरकार की ओर से अंतरराज्यीय परिवहन खोलने की तैयारी की आहट के साथ अब उत्तराखंड रोडवेज ने बसों के बाहरी राज्यों में संचालन की तैयारी कर ली है। रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि अगर सरकार मंजूरी देती है तो रोडवेज 350 बसें प्रतिदिन दूसरे राज्यों के लिए संचालित कर सकता है। इसके साथ ही आय बढ़ाने को लेकर रोडवेज बसों में कुरियर सेवा आरंभ करने की भी तैयारी कर रहा। इसके लिए निजी कंपनियों से बातचीत चल रही है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के चलते दीनदयाल मातृ पितृ तीर्थाटन योजना पर लगाई रोक

शैलेश बगोली (सचिव परिवहन) का कहना है कि अंतरराज्यीय परिवहन खोलने की तैयारी चल रही है। इसके लिए शर्ते तैयार की जा रही हैं। एक-दो दिन में सरकार इस मामले में निर्णय ले सकती है।

यह भी पढ़ें: बस से दून से दिल्ली तक का सफर करने वालों के लिए खुशखबरी, इस रूट पर दौड़ेंगी सीएनजी बसें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस