जागरण संवाददाता, रुड़की: रुड़की में चलती कार में मां-बेटी से सामूहिक दुष्कर्म के पांच आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही, घटना में प्रयुक्त कार और बाइक भी पुलिस ने बरामद की है। पकड़े गए कार सवार चार आरोपित उप्र के मुजफ्फरनगर और सहारनपुर जिले के निवासी हैं, जबकि एक आरोपित कलियर क्षेत्र का है। इनमें से तीन आरोपित एक किसान संगठन से जुड़े हैं।

गुरुवार को सिविल लाइंस कोतवाली में पत्रकारों से बातचीत में एसएसपी डा. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि 24 जून की रात रुड़की कोतवाली पुलिस को सूचना मिली थी कि कलियर क्षेत्र निवासी एक मां-बेटी के साथ कार सवार युवकों ने दुष्कर्म किया था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर सीओ रुड़की विवेक कुमार और सीओ मंगलौर पंकज गैरोला के नेतृत्व में टीम गठित की।

छानबीन में पुलिस को पता चला कि बाइक से कलियर छोडऩे के बहाने से एक व्यक्ति महिला और उसकी बेटी को सोलानी पार्क ले गया था। बाइक सवार ने महिला से दुष्कर्म किया। इसी दौरान वहां आल्टो कार सवार चार युवक आए। उन्होंने मां-बेटी को जबरन कार में डाल लिया और वहां से चले गए। बाइक सवार भी वहां से फरार हो गया।

कार सवार आरोपितों ने कोर कालेज से मंगलौर जाने वाले रास्ते पर खेत में मां से सामूहिक दुष्कर्म किया। जबकि, कार में उसकी छह साल की बेटी से सामूहिक दुष्कर्म किया।इसके बाद आरोपित मां-बेटी को रास्ते में फेंककर फरार हो गए थे। बच्ची को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

प्रभारी निरीक्षक अमरजीत सिंह ने एसओजी की टीम के साथ मिलकर फुटेज में नजर आने वाले गुलाबी शर्ट पहने बाइक सवार महक सिंह उर्फ सोनू निवासी इमलीखेड़ा, थाना कलियर को गिरफ्तार कर बाइक बरामद की। पूछताछ में उसने घटना की पूरी जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की मदद से कार का नंबर ट्रेस किया।

इसके बाद पुलिस ने नंबर ट्रेस कर राजीव उर्फ विक्की तोमर निवासी ग्राम बेलड़ा थाना भोपा, जिला मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद पुलिस ने उसके साथी सुबोध निवासी बेलड़ा, थाना भोपा, जिला मुजफ्फरनगर, सोनू तेजियान एवं जगदीश निवासी साल्हानपुर, थाना देवबंद, जिला सहारनपुर उप्र को गिरफ्तार कर लिया। इनके कब्जे से आल्टो कार भी पुलिस ने बरामद की।

आरोपितों से पूछताछ की गई तो उन्होंने अपना अपराध भी कबूल लिया। आरोपितों ने पुलिस को बताया कि वे सभी सोलानी पार्क में शराब पीने आए थे। एसएसपी डा. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि कार से कुछ साक्ष्य संकलित किए गए हैं, जिन्हें फारेंसिक जांच के लिए भेजा जा रहा है।

आरोपित सोनू तेजियान, विक्की तोमर और सुबोध एक किसान संगठन से जुड़े हैं। इस मौके पर एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल, सीओ विवेक कुमार समेत अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।

पुलिस टीम पर इनामों की बौछार

आरोपितों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को डीआइजी ने 50 और एसएसपी ने 25 हजार का इनाम घोषित किया है। वहीं नगर विधायक प्रदीप बत्रा ने 31 हजार रुपये का नकद इनाम पुलिस टीम को दिया है। उधर, कांग्रेस नेता सचिन गुप्ता ने पुलिस टीम को 21 हजार रुपये तथा पूर्व महापौर यशपाल राणा की तरफ से भी नगद इनाम दिया गया है।

ये थे पुलिस टीम में शामिल

प्रभारी निरीक्षक देवेंद्र चौहान, सीआइयू प्रभारी जहांगीर अली, कलियर थाना प्रभारी मनोहर भंडारी, बहादराबाद थाना प्रभारी नितेश शर्मा, उप निरीक्षक संजय नेगी, कांस्टेबल रामबीर, कांस्टेबल कपिल कुमार, सुरेश रमोला, अहसान अली आदि शामिल रहे।

सीसीटीवी कैमरे बने मददगार

आरोपितों तक पहुंचने में सीसीटीवी कैमरे पुलिस के मददगार बने। महिला ने पुलिस को जो लोकेशन बताई थी। सीआइयू ने वहां से मोबाइल का डाटा उठाकर संदिग्ध मोबाइल नंबर ट्रेस किए। जहां इन मोबाइल नंबर की लोकेशन आती रही, पुलिस और सीआइयू की टीम वहां पर सीसीटीवी कैमरे ट्रेस करती रही। इसके आधार पर ही पुलिस ने पहले बाइक सवार और फिर कार सवारों को चिह्नित किया।

Edited By: Sunil Negi