राज्य ब्यूरो, देहरादून। कोरोना वायरस संकट के समाधान को लेकर सरकार के प्रयासों पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह और नेता प्रतिपक्ष डा इंदिरा हृदयेश ने निशाना साधा है। डा हृदयेश ने मु़ख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के साथ शासन के आला अधिकारियों से संपर्क भी साधा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि कोरोना काल में चिकित्सा क्षेत्र स्टाफ की कमी से जूझ रहा है। यह कमी जानलेवा साबित हो रही है। कुमाऊं में डाक्टरों के 325 और नर्सों के 137 पद रिक्त हैं। इससे बेपरवाह सरकार अपनी ढपली, अपना राग अलाप रही है। 

कोरोना के तेजी से प्रसार और वैक्सीन की कमी ने जनता को मुसीबत में डाल दिया है। टीकाकरण केंद्रों के बंद होने की नौबत है। पहले एक सेंटर पर हर रोज 160 व्यक्तियों को वैक्सीन लग रही थी। यह संख्या घटकर अब सिर्फ 60 रह गई है। कोरोना वायरस की वजह से प्रदेश में प्रवासियों की वापसी का सिलसिला शुरू हो गया है। सरकार को उनकी आजीविका सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए। उधर, नेता प्रतिपक्ष डा इंदिरा हृदयेश ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण बड़ी संख्या में लोग परेशान हैं। 

संक्रमितों को उचित उपचार दिलाने के लिए वह लगातार प्रयास कर रही हैं। इस संबंध में नैनीताल के जिलाधिकारी और मेडिकल आक्सीजन के लिए शासन के नोडल अधिकारी सचिन कुर्वे से दूरभाष पर वार्ता कर अविलंब आक्सीजन सिलिंडर उपलब्ध कराने को कहा गया है। मुख्यमंत्री के साथ वह लगातार संपर्क बनाए हुए हैं।

यह भी पढ़ें-सल्ट उपचुनाव: भाजपा की साख बरकरार, मनोबल बढ़ाने वाली जीत

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें