संवाद सहयोगी, गोपेश्वर: Uttarakhand Chamoli Glacier Tragedy Rescue Operation तपोवन में विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना की मुख्य टनल से सोमवार को दो शव और एक मानव अंग बरामद हुआ।आपदा कन्ट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार एक शव श्रीनगर चौरास तथा एक शव कीर्ति नगर से बरामद हुआ। लापता 206 में से अब तक 70 शव और 29 मानव अंग बरामद हुए। 134 लापता लोगों की तलाश जारी है। जोशीमठ थाने पर अब तक कुल 204 लोगों की गुमशुदगी दर्ज की जा चुकी है।

 अभी तक कुल 96 परिजनों,  48 शवों एवं 25 मानव अंगों के DNA सैम्पल मिलान के लिए एफएसएल, देहरादून भेजे गए हैं। मौके पर राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है।सात फरवरी को आपदा आने के बाद से ही समूचे ऋषिगंगा कैचमेंट क्षेत्र में रेस्क्यू चल रहा है। धौलीगंगा और ऋषिगंगा नदियों में उफान के साथ आए मलबे में लापता व्यक्तियों की तलाश के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, आइटीबीपी, सेना, नेवी और स्थानीय पुलिस के साथ ही सीमा सड़क संगठन की टीमें प्रभावित क्षेत्रों में बचाव एवं राहत कार्यों में जुटी हैं। तपोवन स्थित विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना के मुख्य बैराज साइट पर विगत दिवस पांच शव मिले थे। रविवार को मुख्य टनल से भी एक शव बरामद किया गया।

यह भी पढ़ें- चमोली आपदा के बाद अलकनंदा नदी में 16 गुना अधिक गाद पहुंची

बैराज में दलदल होने के मद्देनजर पंपिंग के जरिये इसमें जमा पानी को बाहर फेंका जा रहा है। इस वजह से अभी बैराज के किनारों से ही मलबा हटाया जा रहा है। बैराज के मध्य तक पहुंचने के लिए इसके सूखने का इंतजार किया जा रहा है। मुख्य टनल के भीतर पानी का अत्याधिक रिसाव होने के कारण रेस्क्यू बाधित हो रहा है। आपदा आने से कुछ देर पहले इस टनल के रास्ते 34 कर्मचारी फ्लशिंग टनल में काम करने गए थे। उन्हीं की खोजबीन में मुख्य टनल से मलबा हटाया जा रहा है। धौलीगंगा के उफान के साथ काफी मात्रा में मलबा और पानी इस टनल में चला गया था। इसे साफ करने में रेस्क्यू टीमों को दिक्कतें पेश आ रही हैं।  

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Chamoli Glacier Tragedy Rescue Operation: चौबीस घंटे में मिले छह शवों की शिनाख्त, पानी का रिसाव होने के चलते मुख्य टनल में रेस्क्यू बाधित

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप