ऋषिकेश, जेएनएन। उत्तराखंड क्रांति दल के संरक्षक त्रिवेंद्र पंवार ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार अगर वास्तव में देश की हितेषी है तो जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाने का काम करें। उन्होंने कहा कि भाजपा इसी वादे के साथ सत्ता में आई थी। अब वक्त है कि सरकार अपना वादा निभाए। 

गढ़वाल मंडल विकास निगम के अतिथि गृह में यूकेडी ने पत्रकार वार्ता आयोजित की। इस दौरान उत्तराखंड त्रिवेंद्र पंवार ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस ने उत्तराखंड के संसाधनों पर मौज करने का काम किया है। राज्य के विकास से इन दोनों दलों का कोई लेना देना नहीं रहा, आज पहाड़ खाली हो गए हैं सरकारी स्कूलों में ताले पड़ गए हैं एनआईटी जैसा संस्थान बंदी के कगार पर है। 

इसके अलावा भी कई बड़े शिक्षण संस्थानों की हालात अच्छी नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के चलते उत्तराखंड के मैदानी इलाकों में बड़ी संख्या में असामाजिक लोग पनाह ले चुके हैं, यही वजह है कि इन मैदानी क्षेत्रों में आज भारत विरोधी नारे लग रहे हैं। उन्होंने राज्य में सत्यापन अभियान चलाने की मांग की। उन्होंने कहा कि पुलवामा आतंकी हमला एक निंदनीय कृत्य है। उत्तराखंड क्रांति दल ने केंद्र सरकार से कश्मीर में शांति के लिए धारा 370 को हटाकर स्थानीय लोगों को रोजगार से जोड़ने की मांग की। 

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कश्मीर से पलायन कर चुके कश्मीरी पंडितों को वापस घाटी में बसाये। यही नहीं राज्यों देश के सभी राज्यों से एक करोड़ से अधिक लोगों को घाटी में बसाने की जरूरत है। इससे कश्मीर में शांति भी स्थापित होगी और घाटी का वैभव भी लौटेगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड क्रांति दल बुधवार को त्रिवेणी घाट पर आतंकी हमले के खिलाफ धरना देगा। इसके साथ ही शहीद सैनिकों की आत्मा शांति के लिए प्रार्थना की जाएगी। 

प्रेस वार्ता में युवा क्रांति दल के नगर अध्यक्ष मोहित डोभाल, आशीष भट्ट, शांति तलियाल, प्रेम सिंह नेगी, केडी जोशी, जितार सिंह बिष्ट, यमुनोत्री रावत आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड बजट के पिटारे में पांचों सीटें साधने की जुगत

यह भी पढ़ें: वित्तमंत्री ने पेश किया 48663.90 करोड़ का बजट, भाषण के दौरान हुए बेहोश

यह भी पढ़ें: कैबिनेट बैठक: अब अवैध शराब के मामले में 10 साल तक की सजा

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस