संवाद सहयोगी, विकासनगर: पहाड़ के गांधी के नाम से प्रसिद्ध उत्तराखंड क्रांति दल के संस्थापक सदस्य व राज्य आंदोलन का नेतृत्व करने वाले इंद्रमणि बडोनी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। डाकपत्थर रोड कार्यालय में आयोजित सभा में उक्रांद नेताओं ने स्व. बडोनी के सपने को साकार करते हुए राज्य को विकास के पथ पर ले जाने का संकल्प लिया।

उक्रांद पूर्व केंद्रीय उपाध्यक्ष सुरेंद्र कुकरेती ने कहा कि स्व. बडोनी का सपना पहाड़ी राज्य के समावेशी विकास का था, जिसके केंद्र में राज्य के गांव थे। राज्य निर्माण की उनकी अवधारणा को सत्ताधारी दलों ने पीछे छोड़ दिया है। राज्य के गठन के बाद से ही भाजपा, कांग्रेस ने राज्य को सत्ता का सुख भोगने का साधन बना दिया। पहाड़ का पानी व पहाड़ की जवानी राज्य के विकास के काम नहीं आ रही है। कहा कि स्व. बडोनी की परिकल्पना के विपरीत राज्य जा रहा है। उन्होंने उक्रांद कार्यकर्ताओं, राज्य आंदोलनकारियों व आम जनता से राज्य का समावेशी विकास कर पहाड़ के गांधी की परिकल्पना को साकार करने को कहा। शहर अध्यक्ष जयकृष्ण सेमवाल ने कहा कि राज्य निर्माण के लिए स्व. बडोनी द्वारा चलाए गए अ¨हसात्मक आंदोलन की तर्ज पर राज्य के समावेशी विकास के लिए नए आंदोलन की जरूरत है, जिसमें जनता की भागीदारी जरूरी है। कार्यकर्ताओं ने अपने नेता को नमन करते हुए राज्य को विकास के पथ पर ले जाने का संकल्प लिया। इस दौरान जिला महिला अध्यक्ष देवेश्वरी विडालिया, अमजद मिर्जा, राम ¨सह रावत, भजन ¨सह नेगी, संदीप भट्ट, राधाकृष्ण लखेड़ा, यशपाल ¨सह गुसाई, बीना पंवार, यशपाल ¨सह सजवाण, नर्वदा पुंडीर, कमलेश रावत, धीरज मणि, सावित्री जोशी आदि मौजूद रहे।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran