राज्‍य ब्‍यूरो, देहरादून। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने सरकार को फिर सख्ती बरतने को मजबूर कर दिया है। उत्तराखंड बोर्ड के साथ ही विश्वविद्यालय समेत तमाम आफलाइन परीक्षाएं स्थगित हो सकती हैं। एक-दो दिन में इस पर फैसला होगा। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इस संबंध में निर्देश दिए हैं। उन्होंने मास्क सही तरीके से नहीं पहनने वालों और सुरक्षित शारीरिक दूरी मानक का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई के भी निर्देश दिए हैं। 

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को सचिवालय में प्रदेश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने परीक्षाओं को स्थगित करने के साथ ही कालेजों में केवल आनलाइन कक्षाओं को अनुमति देने के संबंध में जल्द कार्रवाई के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन हर हाल में कराया जाना चाहिए। कोरोना की जांच और टीकाकरण अभियान तेज किया जाए। संक्रमितों के होम आइसोलेशन के लिए प्रभावी रणनीति बनाई जाए। उन्हें जरूरी किट उपलब्ध कराई जानी चाहिए। साथ ही उनके साथ लगातार संपर्क रखा जाए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड केयर सेंटरों और कंट्रोल रूम को प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए। मृत्यु दर कम करने के लिए यह सुनिश्चित किया जाए कि संक्रमित व्यक्ति को समय पर उपचार मिले। कांटेक्ट ट्रेसिंग बहुत आवश्यक है। कंटेनमेंट जोन में पूरी सख्ती बरती जाए। 

मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने बार्डर पर जांच करने और आरटीपीसीआर टेस्ट का अनुपात बढ़ाने के उन्होंने निर्देश दिए। स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने बताया कि वर्तमान में आइसीयू बेड, वेंटिलेटर, आक्सीजन सपोर्ट बेड पर्याप्त हैं। इन सुविधाओं को बढ़ाया जाएगा। अभी स्थिति पैनिक होने की नहीं है। प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डा पंकज पांडेय ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जिलावार कोविड-19 की स्थिति की जानकारी दी। बैठक में डीजीपी अशोक कुमार, सचिव नितेश झा, डीजी हेल्थ तृप्ति बहुगुणा समेत शासन के वरिष्ठ अधिकारी और वीडियो कान्फ्रेंसिंग से सभी जिलाधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें-देहरादून में 10 नए कंटेनमेंट जोन बने, अब 41 हुई इनकी संख्या

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप