जागरण संवाददाता, ऋषिकेश : संभागीय परिवहन अधिकारी प्रवर्तन सुशील शर्मा ने चारधाम यात्रा व्यवस्था का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने श्री हेमकुंड धाम के लिए बसों की समस्या को देखते हुए अधिकारियों और परिवहन कंपनियों को व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए।

संभागीय परिवहन अधिकारी सुशील शर्मा ने बस टर्मिनल कंपाउंड स्थित हेल्प डेस्क, पंजीकरण कार्यालय सहित अन्य व्यवस्था को परखा। इसके बाद उन्होंने परिवहन कार्यालय में अधीनस्थ अधिकारियों और परिवहन कंपनियों के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब ट्रस्ट के प्रबंधक सरदार दर्शन सिंह ने बताया कि हेमकुंड धाम के लिए वर्तमान में बसों की पर्याप्त व्यवस्था नहीं हो पा रही है। संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति के अध्यक्ष संजय शास्त्री ने बताया कि श्री हेमकुंड के लिए जाने वाले श्रद्धालु एक तरफा वाहन बुक कराते हैं। इसलिए वापसी में वाहनों को सवारियां नहीं मिलती है। परिवहन निगम की ओर से लिए जाने वाले किराये का भुगतान करने के लिए श्रद्धालु सहमत नहीं है।

संभागीय परिवहन अधिकारी ने कहा कि संयुक्त रोटेशन हेमकुंड के लिए अभी चार बस उपलब्ध कराएगा। तीन दिन बाद इनकी संख्या बढ़ाकर छह कर दी जाएगी। 15 दिन तक 12 बसों का पूल आने जाने के लिए बनाया जाएगा। इस बीच वापसी की सवारियों की दिक्कत खत्म हो जाएगी।

चारधाम यात्रा के लिए परिवहन कंपनियों के पदाधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में करीब डेढ़ हजार श्रद्धालुओं का बैकलाग सामने है। बुधवार को कुल 48 बसें ही रोटेशन भेज पाया है। गुरुवार के लिए ज्यादा बसों की डिमांड है, उम्मीद है कि चारधाम यात्रा से बड़ी संख्या में वाहन लौट कर आ जाएंगे। गुरुवार को रोटेशन की ओर से 100 बसें विभिन्न धर्मों के लिए रवाना की जाएंगी। इस दौरान एआरटीओ प्रशासन अरविद कुमार पांडे, एआरटीओ प्रवर्तन मोहित कोठारी, परिवहन कर अधिकारी प्रथम अनिल कुमार, यातायात परिवहन कंपनी के उपाध्यक्ष नवीन रमोला, जीएमओ कंपनी के टूरिस्ट आफिसर अनिल बरगली आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran