जागरण संवाददाता, ऋषिकेश :

भारतीय रेलवे की महत्वकांक्षी व बहुप्रतिक्षित ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना का काम मानसून खत्म होने के बाद एक बार फिर गति पकड़ने लगा है। ऋषिकेश में बन रहे परियोजना के पहले रेलवे स्टेशन को न्यू ऋषिकेश का नाम भी मिल गया है। वर्तमान में परियोजना पर बनने वाली टनल्स (सूरगों) के निर्माण के लिए टेंड¨रग की प्रक्रिया जारी है, जिन पर जल्द ही काम शुरू होने की उम्मीद है।

विदित हो कि 16216 करोड़ की ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना की निगरानी राष्ट्रीय महत्व की परियोजना के रूप में प्रगति पोर्टल के माध्यम से की जा रही है। ऋषिकेश से कर्णप्रयाग तक 126 किलोमीटर की इस रेल परियोजना पर अलग-अलग चरणों के काम किया जा रहा है। ऋषिकेश के वीरभद्र रेलवे स्टेशन से शुरू हो रही इस परियोजना का पहला रेलवे स्टेशन ऋषिकेश में ही निर्मित किया जा रहा है, जो न्यू ऋषिकेश के नाम से जाना जाएगा। प्रगति की बात करें तो न्यू ऋषिकेश रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म व स्टेशन का काम तेजी से जारी है। यहां बकायदा निर्माणधीन न्यू ऋषिकेश रेलवे स्टेशन का बोर्ड भी लगा दिया गया है। रेल विकास निगम के लिए यह परियोजना किसी चुनौती से कम नहीं है। हिमालय के पहाड़ी क्षेत्र में इतनी लंबी परियोजना पर रेल विकास निगम का यह पहला अनुभव है, जिसमें पहाड़ों को काटकर रेलवे लाइन के लिए 16 सुरंग बनाई जानी हैं। यहीं नहीं 17 स्थानों पर पहाड़ों के बीच रेल पुलों का निर्माण होना है। इस पूरी परियोजना में 22 रेलवे स्टेशन बनने हैं, जिनमें कुछ रेलवे स्टेशनों के निर्माण का काम शुरू कर दिया गया है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना के परियोजना निदेशक ओपी मालगुड़ी ने बताया कि मानसून के बाद निर्माण कार्य में तेजी आई है। इन दिनों टनल्स के लिए टेंड¨रग की प्रक्रिया जारी है। कुछ टनल्स के टेंडर पूरे हो चुके हैं और जल्द ही इनपर काम शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि टनल्स से पहले मुख्य मार्ग से यहां तक पहुंच के लिए एडेट रोड बनाई जानी हैं, इनपर तेजी से काम जारी है।

---------------------

मार्च 2019 तक वीरभद्र से जुड़ जाएगा न्यू ऋषिकेश

रेल विकास निगम की माने तो मार्च 2019 तक वीरभद्र स्टेशन से न्यू ऋषिकेश रेलवे स्टेशन को जोड़ दिया जाएगा। यहां करीब 50 फीसद काम पूरा हो चुका है। वीरभद्र व न्यू ऋषिकेश स्टेशन के बीच पड़ने वाले बाईपास मार्ग पर आरयूबी (रेल अंडर ब्रिज) का निर्माण किया जा रहा है। परियोजना निदेशक ओपी मालगुड़ी ने बताया कि मार्च माह तक आरयूबी का काम पूरा हो जाएगा। इसके साथ ही वीरभद्र से न्यू ऋषिकेश तक रेल लाइन भी बिछ जाएगी। इससे आगे देहरादून मार्ग पर रेल ओवर ब्रिज व फिर चंद्रभागा नदी पर रेल ब्रिज बनना है यह दोनों काम भी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप