जागरण संवाददाता, देहरादून :  लंबित मांगों पर कार्रवाई न होने से नाराज राशन डीलर डीएसओ विपिन कुमार को सामूहिक इस्तीफा देने पहुंचे। इस बीच राशन डीलरों और पूर्ति निरीक्षक के बीच मारपीट हो गई। साथ ही डीएसओ से भी धक्का-मुक्की की गई। इस दौरान एक महिला कर्मचारी घायल हो गई। विभाग ने राशन डीलरों पर सरकारी दस्तावेज फाडऩे का आरोप लगाया है। जिला पूर्ति कार्यालय की ओर से शहर कोतवाली में इस संबंध में राशन डीलरों के विरुद्ध तहरीर दी गई। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

शनिवार को राशन विक्रेता एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेंद्र गुप्ता के नेतृत्व में बड़ी संख्या में राशन डीलर सामूहिक इस्तीफा लेकर जिला पूर्ति कार्यालय पहुंचे। यहां से सीधे डीएसओ विपिन कुमार के कक्ष में गए, लेकिन वहां डीएसओ मौजूद नहीं थे। गुस्साए डीलरों ने सरकारी दुकान की चाबी, लैपटाप, राशन पंजीकरण का रजिस्टर मेज पर रख दिए और नारेबाजी करने लगे।

डीलरों को शांत कराने पूर्ति निरीक्षक विभूति जुयाल, प्रशांत बिष्ट कक्ष में पहुंचे, लेकिन डीलरों ने उन्हें ही खरी-खोटी सुना दी। करीब दो घंटे तक डीएसओ कक्ष में हंगामा चलता रहा। कार्यालय पहुंचे डीएसओ से राशन डीलरों ने बमुश्किल पांच मिनट बात की और बाहर निकल गए। इसके बाद जिला पूर्ति कार्यालय परिसर में ही डीलर धरने पर बैठ गए। करीब चार घंटे बाद राशन डीलरों से दोबारा वार्ता के लिए अधिकारी पहुंचे, लेकिन मांगों पर कार्रवाई की जिद को लेकर डीलर धरने पर ही डटे रहे।

इस बीच पूर्ति निरीक्षक विभूति जुयाल और राशन डीलरों के बीच कहासुनी शुरू हो गई। मामला यहां तक बढ़ गया कि पूर्ति निरीक्षक और राशन डीलर एक-दूसरे के साथ अभद्रभाषा का इस्तेमाल करने लगे। साथ ही मारपीट भी हो गई। आनन-फानन में डीएसओ मामले को शांत कराने पहुंचे तो उनके साथ भी धक्का मुक्की की गई। एसोसिएशन के अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि क्षेत्रीय पूर्ति निरीक्षक राशन डीलरों का उत्पीडऩ कर रहे हैं।

बायोमैट्रिक से उपभोक्ताओं को राशन वितरण कर रहे हैं, लेकिन इंटरनेट रिचार्ज का भुगतान नहीं किया जा रहा। लाभांश का भुगतान भी समय पर नहीं किया जा रहा। चेतावनी दी कि मांग पूरी न होने पर प्रदेश भर में आंदोलन किया जाएगा। वहीं डीएसओ विपिन कुमार का आरोप है कि राशन डीलरों ने सरकारी कार्य में बाधा डालने का काम किया है। दस्तावेजों की प्रति फाड़ी गई हैं। इस संबंध में कोतवाली में तहरीर दी गई है। शहर कोतवाल विद्याभूषण नेगी का कहना है जिला पूर्ति कार्यालय की ओर से तहरीर दी गई है। मामले की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Nirmala Bohra