Move to Jagran APP

Power Cut: पीक आवर्स में उत्तराखंड को 200 मेगावाट बिजली देगा टीएचडीसी, चारधाम यात्रा मार्गों पर बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश

Power Cut मुख्यमंत्री धामी चारधाम और यात्रा मार्गों पर बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम यात्रा मार्गों पर एवं सभी धाम में विद्युत व्यवधान नहीं होने के निर्देश ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार को दिए हैं। उधर पीक आवर में प्रदेश में बिजली की सुचारु आपूर्ति के लिए टीएचडीसी आगामी अगस्त माह से 200 मेगावाट बिजली उपलब्ध कराएगा।

By Ravindra kumar barthwal Edited By: Nirmala Bohra Published: Sun, 19 May 2024 08:05 AM (IST)Updated: Sun, 19 May 2024 08:05 AM (IST)
Power Cut: मुख्यमंत्री धामी ने चारधाम और यात्रा मार्गों पर बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए हैं।

राज्य ब्यूरो, जागरण, देहरादून: Power Cut in Uttarakhand: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम यात्रा मार्गों पर एवं सभी धाम में विद्युत व्यवधान नहीं होने और विद्युत आपूर्ति बाधित होने से श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होने देने के निर्देश ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार को दिए हैं।

प्रबंध निदेशक ने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को अपरिहार्य परिस्थिति को छोड़कर कार्यस्थल नहीं छोड़ने की हिदायत दी। उधर, पीक आवर में प्रदेश में बिजली की सुचारु आपूर्ति के लिए टीएचडीसी आगामी अगस्त माह से 200 मेगावाट बिजली उपलब्ध कराएगा। इस संबंध में शनिवार को निगम और टीएचडीसी के बीच सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए।

बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश

मुख्यमंत्री धामी ने चारधाम और यात्रा मार्गों पर बिजली आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए हैं। इस क्रम में शनिवार को ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार श्री बदरीनाथ व श्री केदारनाथ धाम एवं यात्रा मार्गों पर विद्युत व्यवस्था का जायजा लेना प्रारंभ किया। उन्होंने रुद्रप्रयाग पहुंचकर बिजलीघर का निरीक्षण किया।

इसके बाद अधीक्षण अभियंता एवं अधिशासी अभियंता समेत अन्य अभियंताओं के साथ बैठक कर विद्युत आपूर्ति दुरुस्त रखने की हिदायत दी। वह रविवार को श्री बदरीनाथ धाम पहुंचकर विद्युत आपूर्ति व्यवस्था का फीडबैक लेंगे।

ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार ने बताया कि चारधाम में विद्युत आपूर्ति को लेकर आपातकालीन बैठक में मुख्य अभियंताओं एवं अधीक्षण अभियंताओं को सख्त निर्देश दिए गए हैं। उन्हें बिजली तार, कंडक्टर, परिवर्तक समेत आवश्यक सामग्री का पहले से प्रबंध करने को कहा।

उन्होंने बताया कि 11 केवी के शटडाउन के लिए अधिशासी अभियंता को अधीक्षण अभियंता की अनुमति लेना अनिवार्य होगा। 33 केवी के शटडाउन के लिए निगम के निदेशक परिचालन की अनुमति आवश्यक होगी।

सातों दिन 24 घंटे निगरानी

उन्होंने बताया कि मुख्यालय स्थित कंट्रोल रूम से सप्ताह में सातों दिन 24 घंटे निगरानी की जाएगी। ट्रिपिंग की समस्या रोकने के लिए ओवरलोडिंग एवं लोड बैलेंसिंग पर विशेष बल दिया।

उन्होंने बताया कि शनिवार को सभी धाम में विद्युत आपूर्ति सुचारु रही है। बिजली की मांग लगातार बढ़ रही है। पीक आवर्स में बिजली की आपूर्ति सुचारू रखने के लिए टीएचडीसी के साथ अनुबंध किया गया है। टीएचडीसी 200 मेगावाट बिजली पीक आवर्स में आगामी अगस्त माह से उपलब्ध कराएगा।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.